धन के लालच में की दोस्तों ने दोस्त की हत्या


कासगंज: सोरों के मोहल्ला कटरा निवासी दिलीप की हत्या उसके ही दोस्तों ने एक षड़यंत्र के तहत की थी। 14 जून को उसे अगवा किया गया, परिजनों ने अज्ञात में तहरीर दी तो डर से उन्होंने दिलीप को जंगलों में ठिकाने लगा दिया। बाद में फोन से 15 लाख की फिरौती मांगने पर मामला का खुलासा हो गया। पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया और उनकी निशानदेही पर जंगल से जमीन में गढ़े शव को निकलवा लिया है। एक आरोपी अभी भी फरार है। घटना के बाद गुस्साए लोगों ने कोतवाली का घेराव कर लिया और हाइवे पर जाम लगाकर जोरदार प्रदर्शन किया।

पुलिस के मुताबिक मोहल्ला कटरा निवासी दिलीप पुत्र कुंवरपाल को गत 14 जून को तनुज उर्फ तन्नू ठाकुर निवासी मो. अनाज की मण्डी ने एक साजिश के तहत फोन करके बुलाया था और यहां से प्रवीण ठाकुर पुत्र स्व. यशपाल निवासी बरकुला, विकास शर्मा पुत्र राजीव शर्मा निवासी मो. अनाज की मण्डी एक साजिश के तहत नगला काशी के जंगलों में लेकर पहुंचे, जहां उसे बंधक बनाकर रखा गया। परिजनों द्वारा पुलिस को अज्ञात में तहरीर देने के बाद खुलासे के डर से आरोपियों ने दिलीप की हत्या कर जंगलांे ही उसे गाड़ दिया था और फोन से 40 लाख की फिरौती कुंवरपाल से मांगी। इसकी जानकारी पुलिस को दी गई।

एसएचओ अशोक कुमार सिंह ने टीम गठित की। टीम ने शक के घेरे में लेते हुए तनुज, प्रवीन, विकास को गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों की निशानदेही पर पुलिस ने नगला काशी के जंगलों से शव बरामद कर लिया है। अभी भी एक आरोपी फरार है। दिलीप का शव मिलने के बाद आक्रोशित परिजनों ने कोतवाली का घेराव कर डाला और हाइवे जाम कर प्रदर्शन शुरू कर दिया। हालांकि पुलिस की कार्रवाई के आश्वासन के बाद परिजन शांत हुए। पुलिस ने मृतक के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।