अखिलेश राज में अपर्णा के NGO को मिला था, 86 % का अनुदान


उत्‍तर प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री और समाजवादी पार्टी के अध्‍यक्ष एक बार फिर चर्चा में है। इस बार वह किसी और को लेकर नहीं, बल्कि अपनी छोटी बहु अपर्णा यादव के कारण चर्चा में है। दरअसल, आरटीआई कार्यकर्ता नूतन ठाकुर ने खुलासा किया है कि अखिलेश सरकार में गो सेवा आयोग ने सरकारी फंड की 86 फीसदी रकम सिर्फ अपर्णा यादव की संस्था को दी थी। अपर्णा यादव जीव आश्रय के नाम से एक गो सेवा संस्था चलाती हैं।

                                                                                          Source

यह RTI आईपीएस अमिताभ ठाकुर की पत्नी नूतन ठाकुर की और से डाली गई थी। RTI में खुलास हुआ कि साल 2012-2017 तक अपर्णा की संस्था को गो सेवा आयोग की ओर से 8.35 करोड़ रुपए का अनुदान दिया गया जबकि इस दौरान आयोग ने कुल 9.66 करोड़ रुपए की राशि आवंटित की थी। कुल आवंटन का 86 फीसदी पैसा लखनऊ के अमौसी स्थिति अपर्णा यादव के NGO को दिया गया। गो सेवा आयोग पशु और कृषि विभाग के तहत काम करता है जो कि गौ शालाओं और गायों के संरक्षण के लिए काम करने वाली संस्थाओं को सरकारी मदद मुहैया कराता है।

आयोग की ओर से RTI के जवाब में कहा गया कि जीव आश्रय संस्था को साल 2012-13 में 49.89 लाख, साल 2013-14 में 1.25 करोड़ और साल 2014-15 में 1.41 करोड़ रुपए आवंटित किए गए। सपा सरकार का कार्यकाल खत्म होने से ठीक पहले अपर्णा यादव की संस्था को ड़ी रकम आवंटित की गई। साल 2015-16 में सबसे ज्यादा संस्था को 2.58 करोड़ और साल 2016-17 में 2.55 करोड़ रुपए का अनुदान दिया गया। साल 2016-17 में कुल 3.35 करोड़ की राशि में से 2.55 करोड़ रुपए का अनुदान अपर्णा की संस्था को दिया गया जबकि एक चार संस्थाओं को कुल मिलाकर 63 लाख रुपए का अनुदान दिया गया।

                                                                                        Source

योगी सरकार के गठन के बाद साल 2017-18 के दौरान अब तक कई गौ शालाओं को कुल 1.05 करोड़ रुपए का अनुदान दिया गया है जिनमें अपर्णा यादव की संस्था शामिल नहीं है। ललितपुर की दयोदया संस्था को इस दौरान सबसे ज्यादा 63 लाख रुपए का अनुदान सरकार की ओर से दिया गया है। अभी तक अपर्णा यादव ने इस मामले पर कोई भी प्रतिक्रिया नहीं दी है।