कश्मीर के हालात ठीक नहींः प्रो. भीम सिंह


गोवर्धन: जम्मू कश्मीर के वर्तमान हालात 1947 से भी बदतर हैं। नेपाल के रास्ते से विदेशी आतंकवादी घुसपैठ कर रहे हैं, लेकिन सरकार चुप बैठी है। जम्मू-कश्मीर में मानवाधिकार नाम की कोई चीज नहीं है। उक्त दावा जम्मू कश्मीर पैंथर्स पार्टी के चेयरमैन प्रो. भीम सिंह ने जतीपुरा परिक्रमा मार्ग स्थित आश्रम में गोवर्धन मठ पुरी पीठाधीश्वर जगत्गुरू शंकराचार्य अद्योक्षजानंद देव तीर्थ महाराज के यहां वर्तमान जम्मू कश्मीर के हालात पर राजनैतिक, सामाजिक एवं धार्मिक चिंतन के दौरान किया। प्रो. सिंह ने कहा कि भारत का एक संविधान व एक झंडा होना चाहिए। जम्मू कश्मीर का झंडा व संविधान अलग है। कश्मीरी अवाम उग्रवादी नहीं है।

उग्रवादी नेपाल के रास्ते से आ रहे हैं। कई बार सुप्रीम कोर्ट में अपील भी की गई लेकिन केन्द्र सरकार ने कोई कार्यवाही नहीं की है। अमरनाथ में हुए आतंकवादी हमले से पूर्व सरकार सजग नहीं हुई। करीब छह माह से कश्मीर के जो हालात हैं, ऐसे हालात कभी नहीं देखे गये हैं। उन्होंने कहा कि सरकार ने आएसएस के हाथ में सुरक्षा का एजेंडा दे दिया है। आरएसएस का जम्मू कश्मीर में उपमुख्यमंत्री बना दिया है। फिर ऐसे हालात क्यों हो गये। जगत्गुरू शंकराचार्य ने कहा कि जम्मू कश्मीर के हालात पर सरकार चुप है। धर्म गुरूओं काे चिंता हो रही है।