कानून व्यवस्था ध्वस्त


मथुरा: प्रदेश के पूर्व उच्च शिक्षा मंत्री एवं मांट क्षेत्र के बसपा विधायक श्याम सुंदर शर्मा ने रायबरेली के थाना ऊंचाहार अन्तर्गत ग्राम भुरजई इटौरा बुजुर्ग में हुए मर्डर को एक काली रात की संज्ञा दी। उन्होंने आरोप लगाया कि प्रदेश के एक मंत्री ने इस मामले में आग में घी डालने का काम किया, जो शर्मनाक है। विधान सभा में इस मुद्दे को उठाते हुए श्री शर्मा ने प्रदेश की योगी सरकार को चुनौती दी। जिन मंत्री ने मर्यादा तोड़ी है वह सदन में आकर माफी मांगे, या फिर मुख्यमंत्री उन्हें बर्खास्त करें। राय बरेली की घटना पर दु:ख जाहिर करते हुए बसपा विधायक ने कहा कि ग्राम भुजरई इटौरा बुजुर्ग में नौजवानों को गोली, डंडों से मार दिया गया, दो नौजवानों को गाड़ी के अंदर डालकर पेट्रोल डाल हमलावर इन नौजवानों को जब तक जलाते रहे जब तक कि उनकी बॉडी जलकर राख नहीं हो गई।

इस घटना ने यह साबित कर दिया कि पूरे राज्य में कानून व्यवस्था नाम की चीज नहीं है। हैरत की बात तो यह है कि इस घटना पर वहां के एक जिम्मेदार पुलिस अधिकारी यह ब्यान देते हैं कि यह घटना नहीं दुर्घटना है। सरकार की ओर से जो धनराशि नौजवानों के परिवार को दी गई है वह ऊंट के मुंह में जीरे के समान है। इसके साथ-साथ एक मंत्री जिन्हें उन लोगों को भावांजलि देनी चाहिए थी उसके बजाए जो लोग मरे उनके लिए कहा गया ये गुंडे थे, यह बदमाश थे। उन्होंने सभापति से कार्य स्थगन करने की मांग की और सरकार से कार्यवाही की मांग करते हुए मुआवजा बढ़ाने का आग्रह किया। उन्होंने हमलावरों के खिलाफ एनएसए के अन्तर्गत कार्यवाही करने की मांग की।

– कमलकांत उपमन्यु