फसली ऋण खातों को आधार कार्ड से लिंक करायें


aadhar card

एटा: जिलाधिकारी अमित किशोर ने सूचित किया है कि लघु एवं सीमांत कृषकों के फसली ऋण योजना में शामिल होने के लिए सभी किसानों जो उ0प्र0 के निवासी हों, खतौनी में नाम दर्ज हो तथा उ0प्र0 स्थित किसी भी बैंक शाखा से फसली ऋण प्राप्त किया हो। फसल ऋण 31 मार्च 2016 या इससे पूर्व ऋण प्रदाता संस्थाओं से प्राप्त किया हो, राज्य सरकार एक लाख रूपये तक की धनराशि का ऋण मोचन प्रदान करेगी। ऋण मोचन धनराशि की गणना के प्रयोजन हेतु 31 मार्च 2016 को बकाया से वित्तीय वर्ष 2016-17 की अवधि में किसान द्वारा आहरित धनराशि या नई स्वीकृतियों पर विचार किये बिना वित्तीय वर्ष 2016-17 की अवधि में किसान से प्राप्त प्रतिभुगतान को घटा दिया जायेगा।

ऐसे किसान जिनके पास फसली ऋण की रिजर्व बैंक के दिशा निर्देश के अनुसार प्राकृतिक आपदाओं के होने के कारण पुनर्संरचना कर दी गई हो एवं सरकार द्वारा राजस्व अभिलेखों के आधार पर पट्टे पर दी गई भूमि पर खेती करने के लिए किसान द्वारा लिया गया फसली ऋण इस योजना के अन्तर्गत आच्छादित होगा। डीएम ने बताया कि एक ही कृषि भूमि पर एक से अधिक बैंकों से लिया गया ऋण एवं जहां किसान क्रेडिट कार्ड संबंधी खातों से आहरित धनराशि कृषि उद्देश्य के लिए प्रयोग न की हो लेकिन अन्य किसी आवधिक, आवर्ती खाते में जमा किया गया हो।