मुलायम की बहू अपर्णा की संस्था की हो सकती है जांच


लखनऊ : समाजवादी पार्टी (सपा) संरक्षक मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव की स्वयं सेवी संस्था की जांच हो सकती है। अपर्णा यादव की संस्था ‘जीव आश्रय’ पर अखिलेश यादव सरकार की मेहरबानी का आलम यह था की पांच वर्षों में गो सेवा के नाम पर करीब साढे आठ करोड रुपये सरकार ने अनुदान के रुप में दे दिये थे। यह अनुदान सरकार के इस मद का 86 फीसदी से अधिक है।

Source

सूचना के अधिकार के तहत इसका खुलासा होते ही राजनीतिक हल्कों में चटखारे लेकर इस पर चर्चा शुरु हो गयी है। लोगों का कहना है कि भाई-भतीजावाद का इससे ज्वलंत उदाहरण क्या हो सकता है।

गौशाला के नाम पर हुई सरकारी धन का बंदरबांट

Source

उधर, सूबे के दुग्ध विकास मंत्री चौधरी लक्ष्मी नारायण ने संस्था को दिये गये धन की जांच की घोषणा कर दी है। श्री चौधरी ने कहा कि गौशाला के नाम पर सरकारी धन का बंदरबांट हुआ है। अखिलेश यादव सरकार ने इस मद का 86 फीसदी से ज्यादा धन अपने ही परिवार को दे डाला। इसकी जांच करवाकर दोषियों को दण्डित किया जायेगा। दूसरी ओर, इस बाबत अपर्णा यादव से कई बार बात करने की कोशिश की गयी लेकिन वह फोन पर नहीं आयीं और न ही कोई प्रतिक्रिया दी।