सपा में एकता नहीं होने पर नेताजी के नेतृत्व में बनेगा नया मोर्चा: शिवपाल


आजमगढ़: प्रदेश के पूर्व कैबिनेट मंत्री एवं समाजवादी पार्टी (सपा) नेता शिवपाल सिंह यादव ने कहा है कि पार्टी में एकता नहीं हुई तो आने वाले दो माह के भीतर नेताजी (मुलायम ङ्क्षसह यादव) के नेतृत्व में एक नया मोर्चा बनाया जायेगा। उन्होंने मुलायम सिंह यादव के राज्यपाल बनाये जाने की खबरों को खारिज करते हुए कहा कि ऐसे किसी प्रस्ताव को नेताजी स्वीकार नहीं करेंगे। अभी भी समय है, समाजवादियों को एक हो जाना चाहिए। एकजुट नहीं हुए तो नेताजी के नेतृत्व में आने वाले दो माह के भीतर एक नया मोर्चा बनाया जायेगा।श्री यादव बेलनाडीह गांव में एक निजी कार्यक्रम में शामिल होने आये थे। उन्होंने कहा कि पार्टी में सबकुछ ठीक नहीं है। नेताजी के नेतृत्व में एक नया मोर्चा बनाया जा सकता है। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव नेताजी को सम्मान देते तो ऐसी स्थिति नहीं आती।

वे पूरे प्रदेश का भ्रमण कर रहे हैं। लोगों से मिल रहें हैं। सपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष ने बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाईटेड(जदयू) और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के गठबंधन को निजी मामला बताते हुए इस बारे में कुछ भी कहने से इंकार कर दिया। उन्होंने कहा कि देश में अभी महागठबंधन बना भी नहीं था कि मुख्यमंत्री नीतिश कुमार ने भाजपा से हाथ मिला लिया। श्री यादव ने कहा कि देश में महागठबन्धन नही बना था। अगर नेताजी के नेतृत्व में महागठबन्धन बनता तो आज ऐसी स्थिति नहीं आती। उन्होंने कहा कि वह प्रदेश सरकार के ऊपर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहते हैं लेकिन प्रदेश में अपराध बढ़े हैं।

अपराधों को बढऩे से रोकने के लिए सरकार को ठोस कदम उठाने की जरूरत है। नवनिर्मित रिसार्ट में पहुंचे पूर्व मंत्री शिवापाल ङ्क्षसह यादव का उनके गुट के कार्यकर्ताओं ने जोरदार स्वागत किया। इस दौरे की सबसे खास बात यह रही कि केवल मुलायम और शिवपाल गुट के ही लोग उनके साथ रहे पूरी सपा उनसे दूरी बनाये रखी। समाजवादी नेता के दौरे की सबसे अहम बात यह रही कि सपा के पूर्व विधायक रामदर्शन यादव, अभिषेक ङ्क्षसह आंसू के अलावा कोई भी अखिलेश गुट का एक भी नेता शिवपाल के स्वागत या काफिले में नजर नहीं आया। जिलाध्यक्ष हवलदार यादव,विधायक दुर्गा प्रसाद यादव,बलराम यादव,संग्राम यादव,आलंबदी,जैसे लोग उनके स्वागत में मौजूद नही थे।