डग्गमार वाहन चालकों की मनमानी


कासगंज: शहर से इस्माइलपुर मार्ग पर सांकरा, रामघाट तक प्राइवेट बसों का संचालन करने वाले संचालक डग्गेमार वाहन चालकों की मनमानी से तंग आ गए हैं। शिकायतों के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं होने से उन्होंने बसें खड़ीं कर दी हैं। जबकि रोड पर डग्गेमारी बंद कराने के लिए कोर्ट से भी उनके पक्ष में निर्णय आया है। शनिवार को प्राइवेट बस चालकों ने दुबारा डीएम को ज्ञापन सौंपा है और डग्गेमारी बंद नहीं होने पर दुबारा कोर्ट की शरण लेने की चेतावनी दी है। मुख्यमंत्री के नाम जिलाधिकारी आरपी सिंह को सौंपे गए ज्ञापन में प्राइवेट बस संचालकों ने बताया है कि रोड पर डग्गेमारी बंद करने एंव बसों के संचालन के लिए कोर्ट भी उनके पक्ष में फैसला दे चुका है, लेकिन एआरटीओ विभाग एवं पुलिस की मिलीभगत के चलते कासगंज से सांकरा रोड पर डग्गेमारी बंद नहीं हो रही।

स्थिति यह है कि उन्हें काफी नुकसान हो रहा था। थक हारकर अब तो उन्होंने बसों का संचालन ही बंद कर दिया है। यदि जल्द ही डग्गेमारी बंद कराने को लेकर कार्रवाई नहीं हुई तो सभी बस संचालक बसों के प्रपत्र एआरटीओ कार्यालय में जमा कर देंगे। बस संचालकों ने चेतावनी दी है कि यदि आटो रिक्शा एवं अन्य डग्गेमार रोड से जल्द ही नहीं हटाए गए तो वह दुबारा से कोर्ट का दरबाजा खटखटाएंगे। डीएम ने मामले को गंभीरता से लेते हुए एआरटीओ को जल्द कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। इस दौरान मोहम्मद जावेद, गिरीशचंद्र, रियाज अहमद, ओमप्रकाश, सुरेशचंद्र, ताहिर, शकील अहमद, मुहम्मद उवैस, खालि, शमीम अहमद सहित अन्य मौजूद रहे।

– जितेन्द्र पाल