भूमि को लेकर दो पक्षों में पथराव


गढ़मुक्तेश्वर: बहादुरगढ़ क्षेत्र के गांव गंदूनगला में कब्रिस्तान की भूमि पर देर रात्रि को ट्रैक्टर चला कर दो कब्रों को खुर्दबुर्द करने का आरोप लगाते हुए विशेष समुदाय के लोगों ने हंगामा किया। जबकि हंगामे के दौरान गांव के दोनों समुदाय के लोगों के बीच जमकर पथराव भी हो गया। पथराव में दोनों पक्षों के आधा दर्जन लोग घायल हो गये। घायलों को पुलिस ने स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराते हुए दोनों पक्षों के आधा दर्जन लोगों को हिरासत में लेकर मामले की जांच शुरु कर दी है। जबकि एसडीएम और डीएसपी ने गांव में शान्ति बनाये रखने के उद्देश्य से ग्रामीणों के साथ बैठक कर भूमि की जांच कराने की बात कही है। गढ़मुक्तेश्वर तहसील क्षेत्रउ के गांव गंदूनंगला में सहकारी समिति के निकट कब्रिस्तान की भूमि है। समिति के मार्ग के निकट ही गांव के रहने वाले रजवा व अल्लाबक्स की कब्र भी बनी हुई है।

बताया गया है कि बुधवार की रात्रि को अज्ञात लोगों द्वारा समिति के रास्ते के निकट कब्रिस्तान की भूमि पर ट्रैक्टर चला दिया गया। बृहस्पतिवार की सुबह को जब मुस्लिम समुदाय के लोगों को इस बात की जानकारी हुई तो दर्जनों लोग मौके पर पहुंच गये। मौके पर पहुंचने के बाद लोगों ने दूसरे समुदाय के लोगों पर ट्रैक्टर चलाकर कब्रों को खुर्दबुर्द करने का आरोप लगाते हुए हंगामा शुरु कर दिया। दूसरे समुदाय के लोगों को जब इस बात की जानकारी हुई तो दोनों समुदाय के लोग आमने-सामने आ गये और दोनों समुदाय के लोगों के बीच मारपीट होने के साथ-साथ पथराव हो गया। पथराव में युनूस, बाबू, इकरामुद्दीन, मुस्तकीम, रिजवान, बोबी, खिलेन्द्र आदि घायल हो गये।

सूचना पर बहादुरगढ़ थाना प्रभारी रविरतन भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गये, जबकि गांव में लोगों की अधिक भीड़ को देखकर सिंभावली पुलिस को भी मौके पर बुलाया गया। पुलिस ने मौके पर जैसे-तैसे कर लोगों को तितर बितर किया गया। पुलिस ने सभी घायलों को उपचार के लिए भर्ती कराते हुए दोनों पक्षों के आधा दर्जन लोगों को हिरासत में लिया गया है। वहीं गांव में दो समुदाय के लोगों के बीच मारपीट होने की सूचना पर एसडीएम मीनू राणा डीएसपी संतोष कुमार ने गांव में शान्ति बनाये रखने की अपील करते हुये गणमान्य लोगों के साथ शान्ति समिति की बैठक का आयोजन किया। डीएसपी ने कहा कि गांव के गणमान्य लोगों के साथ मिलकर विवादित भूमि की जांच कराने के लिए उच्च अधिकारियों से वार्ता की जायेगी।

– मुस्तफा खां