भूमि पर कब्जा लेेने पहुंची टीम का विरोध


गुलावठी: ग्राम देवली एवं ग्राम मि_ेपुर में एनएच 235 बाईपास के लिए प्रस्तावित अधिग्रहित भूमि पर कब्जा लेने के लिए गई हाईवे प्राधिकरण की टीम का किसानों ने विरोध किया। ग्राम देवली में अनेक किसान हंगामा करते हुए टीम द्वारा लाई गई ग्रेडर मशीन के आगे लेट गए। किसानों एवं महिलाओं ने जमकर नारेबाजी की। पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। वहीं, ग्राम मिट्ठेपुर में किसानों ने जमीन पर कब्जा नहीं होने दिया। ग्राम देवली में बुधवार को हाईवे प्राधिकरण के प्रोजेक्ट मैनेजर तरूण कुमार के नेतृत्व में अनेक कर्मचारी ग्रेडर मशीनल लेकर बाईपास निर्माण के लिए भूमि पर कब्जा करने के लिए पहुंचे, परंतु अनेक किसान एवं महिलाएं पहले से वहां मौजूद थी। किसानों ने कब्जा लेने का विरोध करते हुए हंगामा किया तथा नारेबाजी की। अनेक किसान ग्रेडर मशीन के आगे लेट गए तथा कहा कि वह हाईवे प्राधिकरण को जमीन पर कब्जा नहीं लेने देंगे।

किसानों सोनू तेवतिया, देवेंद्र सिंह, भाकियू के तहसील अध्यक्ष रोहताश सिंह तेवतिया, सलीम, शब्बीर अहमद, चमन सिंह देवली, तेजवीर सिंह, सतपाल सिंह, केहर सिंह, राजवीर सिंह, जुगेंद्र सिंह, जयवीरी, सिमलेश, सरदारी देवी का कहना था कि एनएच बाईपास के लिए उनकी भूमि का कम मुआवजा तय किया गया है। उन्होंने कहा कि किसानों ने डीएम कार्यालय में आरबी टेशन डाला है। जिसकी सुनवाई चल रही है। किसानों का कहना था कि जब तक आरबी टेशन पर सुनवाई चल रही है तब तक हाईवे प्राधिकरण को भूमि पर कब्जा नहीं लेना चाहिए। उधर, ग्राम मि_ेपुर में भी किसानों के विरोध के चलते हाईवे प्राधिकरण की टीम को वापस लौटना पड़ा। मि_ेपुर में किसानों हाजी मासूम अली, फहीमुद्दीन मेवाती, खालिद खां, तैयुब, हाजी नासिर, फकर खां, फखरूद्दीन आदि ने कहा कि आरबी टेशन पर सुनवाई के बाद ही हाईवे प्राधिकरण को जमीन पर कब्जा लेना चाहिए। गौरतलब है कि गुलावठी में हाईवे पर बाईपास का निर्माण होना है तथा किसानों की मांग है कि वह कम मुआवजा नहीं लेंगे। किसानों की मांग है कि उन्हें अधिक से अधिक मुआवजा दिया जाए।

– विनोद कुमार सैनी