स्कूलों और BSA कार्यालय पर शिक्षामित्रों ने लगाया ताला, रोकी ट्रैन


सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद से उत्तर प्रदेश में शिक्षामित्रों का विरोध जारी है। आज भी हजारों शिक्षामित्र स्कूल से निकलकर सड़क पर उतरे। आक्रोशित शिक्षामित्रों ने अमरोहा में समायोजन रद्द होने से कैबिनेट मंत्री की फैक्ट्री में पहुंचकर हंगामा कर दिया। वादे के बाद भी मंत्री के न मिलने पर शिक्षामित्रों ने नाराजगी जताई।

अपराह्न करीब 12 बजे तक शिक्षामित्र फैक्ट्री में जमे हुए थे। दूसरी तरफ मथुरा में शिक्षामित्रों का विरोध-प्रदर्शन तीसरे दिन भी जारी रहा। शिक्षामित्रों ने आज जनपद के कई प्राथमिक स्कूलों और जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय में तालाबंदी कर दी और फिर बीएसए कार्यालय पर धरना प्रदर्शन करते हुए प्रदेश सरकार को कोसा। साथ ही स्टेशन पर कासगंज पैसेंजर के आगे खड़े होकर नारेबाजी की।

Source

शिक्षामित्रों ने कई प्राथमिक विद्यालयों में तालाबंदी कर शिक्षण कार्य ठप कर दिया। जिसके कारण स्कूल आने वाले बच्चों को बिना पढ़े ही घर वापस लौटना पड़ा। उप्र प्राथमिक शिक्षामित्र संघ के बैनर तले शिक्षामित्र सुबह लगभग 10 बजे बीएसए कार्यालय पर एकत्र हुए। शिक्षामित्रोें ने पहले बीएसए कार्यालय के सभी कर्मचारियों को बाहर निकाला और फिर कार्यालय के सभी कक्षों में तालाबंदी कर डाली।

फिर तकरीबन 200 से 300 शिक्षामित्र बीएसए कार्यालय पर बाहर धरने पर बैठ गए और सरकार के विरुद्ध जमकर नारेबाजी की। वहीं शिक्षामित्रों के दूसरे गुट आदर्श शिक्षक (शिक्षामित्र) वेलफेयर एसोसिएशन ने छावनी रेलवे स्टेशन पर कासगंज पैसेंजर के आगे पटरी पर नारेबाजी प्रदर्शन किया। हालांकि ट्रेन चलने का समय हुआ तो जीआरपी ने उन्हें हटा दिया।