प्रदेश में जातीय संघर्ष के लिए राज्य सरकार जिम्मेदार : सपा


लखनऊ : समाजवादी पार्टी (सपा) ने सांप्रदायिक और जातीय संघर्ष के लिए सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा है कि दलितों और कमजोर वर्ग पर हो रहे उत्पीडऩ से यहां कानून व्यवस्था की गंभीर स्थिति पैदा हो गई है। सपा के मुख्य प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने आज यहां कहा कि सपा अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के निर्देश पर आगामी 29 मई को सभी जिलों में पार्टी पदाधिकारी जिलाधिकारी के माध्यम से राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन सौंपकर प्रदेश में कथित जंगलराज के खिलाफ हस्तक्षेप की मांग करेंगे।

ज्ञापन में गत 20 मार्च के पश्चात जिले की सभी बड़ी घटनाओं को भी शामिल किया जाएगा। उन्होंने कहा है कि उत्तर प्रदेश में केवल दो माह की अवधि में सहारनपुर जिले में लगातार तीन गंभीर घटनाएं सड़क दूधली, शब्बीरपुर, तथा रामनगर में हुई। मथुरा का डकैती एवं हत्याकांड, ग्रेटर नोएडा जेवर क्षेत्र में महिलाओं के साथ बलात्कार और हत्या, वाराणसी में 10 करोड़ रूपये की डकैती, गोरखपुर में हत्याएं, इलाहाबाद में सामूहिक बलात्कार तथा हत्या आदि दिल दहलाने वाले लोमहर्षक कांड हुए हैं।

राजधानी लखनऊ भी अपराधों से लोग आतंकित है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार कानून व्यवस्था के मामले में पूरी तरह से असफल साबित हुई है। उन्होंने कहा कि सपा की चिंता है कि प्रदेश में समाज को जाति और संप्रदाय के नाम पर जिस तरह बांटा जा रहा है उस पर रोक न लगी तो राज्य विकास एवं प्रगति में बहुत पीछे चला जायेगा।

– (वार्ता)