आज से शुरू हुये जेठ मेले की चाकचौबंद सुरक्षा व्यवस्था की


बहराइच : उत्तर प्रदेश के बहराइच में हिंदू-मुस्लिम एकता का प्रतीक प्रतीक सैयद सालार मसूद गाजी की दरगाह पर एक माह तक लगने वाला आज से शुरू हुआ ‘जेठ मेले’ की चाक चौबंद सुरक्षा व्यवस्था की गयी है। दरगाह प्रबंध समिति के अध्यक्ष शमशाद अहमद ने बताया कि मेले की औपचारिक शुरुआत सुबह कुरआन ख्वानी से हुयी। जेठ मेले का उदघाटन 13 मई को उच्च न्यायालय के न्यायाधीश अताउर्रहमान मसूदी शाम करीब सात बजे करेगें।

अध्यक्ष ने बताया कि मुख्य मेला 14 मई रविवार को है। इस दिन गाजी मियाँ की बारात गाजे-बाजे के साथ देश के विभिन्न क्षेत्रों से आयेंगी। इसी दिन बारात की अगवानी से पहले जिलाधिकारी अजयदीप सिंह एवं पुलिस कप्तान सुनील कुमार सक्सेना और अन्य लोगों को सम्मानित किया जाएगा। पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार सक्सेना ने मेले की सुरक्षा व्यवस्था के बारे में बताया कि दरगाह शरीफ मेले में सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद रखने के लिए बडी संख्या में पुलिस बल की व्यवस्था की गई है।

इस बार मेले पर नजर रखने के लिए 64 सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे हैं। मेले की सुरक्षा के लिए अन्य जिलों की पुलिस भी बुलाई गई है। मेला परिसर में अस्थाई थाने एवं चौकियों का भी निर्माण हो चुका है। मेला परिसर में कुल 859 पुलिसकर्मी सुरक्षा व्यवस्था पर नजर रखेंगे।

जिले के महिला थाना और प्रभारी निरीक्षकों समेत 26 थानाध्यक्ष और 105 उपनिरीक्षक लगाए गए हैं। इसके अलावा 40 हेड कांस्टेबिल, दो महिला मुख्य आरक्षी, 569 आरक्षी की भी ड्यूटी लगाई गई है। महिला कांस्टेबिल 91, ट्रैफिक के 20 सिपाहियों की ड्यूटी लगाई गई है।

श्री सक्सेना ने बताया कि पर्याप्त फोर्स के लिए पड़ोसी जिला गोण्डा, बलरामपुर, श्रावस्ती, गोरखपुर, देवरिया, कुशीनगर, महाराजगंज, सिद्धार्थनगर, बस्ती व संतकबीरनगर से भी उपनिरीक्षक मेला ड्यूटी के लिए भेजे गए हैं। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि 64 सीसी टीवी कैमरे लगाए गए हैं।

जिसमें एक कैमरा दरगाह शरीफ के मुख्य प्रवेश द्वार के निकट नूशी क्लीनिक के पास, एक कैमरा जंजीरी गेट, एक कैमरा नाल दरवाजा और एक कैमरा दरगाह शरीफ के पूर्वी गेट पर लगाया जा रहा है। इन सभी कैमरों से दरगाह मेले की सुरक्षा व्यवस्था पर नजर रखी जाएगी।

इसके अलावा एक थाना व 13 अस्थायी पुलिस चौकियां स्थापित हुई हैं। 1050 होमगार्ड और पीआरडी के जवान भी व्यवस्था संभालेंगे। उन्होंने बताया कि दरगाह मेले में किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए गोण्डा से तीन अग्निशमन कर्मी बुलाए गए हैं। इसके अलावा गाडिय़ां और जिले में मौजूद फायर बिग्रेड भी मेला परिसर में 24 घंटे तैनात रहेगा। जेठ मेला एक माह तक चलता है।

श्री सक्सेना ने बताया कि मेले में लाखों की भीड़ इकट्ठा होती है। ऐसे में आकस्मिक हालात से निपटने के लिए बम निरोधक दस्ते को भी बुलाया गया है। पूरे माह बम निरोधक दस्ता दरगाह परिसर में मुस्तैद रहेगा। मेला परिसर में व्यवस्थाओं की समीक्षा और निगरानी के लिए कदम रसूल के निकट जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक का कैंप कार्यालय भी स्थापित किया गया है।

– (वार्ता)