सच्चा युवा वही जो चुनौतियों का सामना करे : योगी


yogi

जौनपुर : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने कहा है कि युवाओं के सामने कई चुनौतियां है और सच्चा युवा वही है जो पलायन करने के बजाए चुनौती को स्वीकार करे। श्री योगी ने कहा कि विश्वविद्यालय डिग्री बांटने का केंद, न बने बल्कि वह नौजवानों के हितों को ध्यान में रखते हुए विकास में योगदान दे। मुख्यमंत्री आज जौनपुर में वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय में स्वामी विवेकानंद की जयन्ती पर राष्ट्रीय सेवा योजना के तत्वावधान में आयोजित राष्ट्रीय युवा दिवस समारोह को बतौर मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि सरकार की वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट योजना का मकसद क्षेत्रीय उत्पादों को बढ़वा देना है। उन्होंने कहा कि हमें क्षेत्र विशेष के परम्परागत उत्पादों को मंच देना होगा तब जाकर क्षेत्र का विकास होगा।उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री कौशल विकास योजनाओं का लाभ प्रदेश के चार लाख लोग पा चुके हैं। विश्वविद्यालय इसमें अपना योगदान सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि विद्यार्थी स्वस्थ प्रतिस्पर्धा के लिए और विश्वविद्यालय नकल विहीन परीक्षा के लिए अपने को तैयार रखें। यही स्वामी विवेकानंद के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि युवा स्वयं रोजगार देने वाला बनें, रोजगार के लिए उसे कहीं भटकना न पड़। उन्होंने प्रदेश के सभी शिक्षण संस्थाओं से नकल विहीन परीक्षा कराने की बात कही। उत्तर प्रदेश-योगी युवा दो जौनपुर मुख्यमंत्री ने किसानों की चर्चा करते हुए कहा कि अगर 22 करोड लोगों के चेहरे पर खुशहाली लानी है तो पहले किसानों को खुशहाल करना पड़गा, कितना अच्छा होता अगर हर महाविद्यालय में मिट्टी की जांच केंद, स्थापित होता। उन्होंने कहा कि जिस तरह से हमने अपने शरीर की जांच कराते हैं, ठीक उसी तरह से हमें मिट्टी की भी जांच करानी चाहिए। उन्होंने एक हिन्दी समाचार पत्र की चर्चा करते हुए कहा कि वह बिना किसी के कहे अपनी जिम्मेदारी मानते हुए मिट्टी परीक्षण के कार्य को बढ़वा देने के लिए लोगों को जागरूक कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि कितना अच्छा होता कि प्रदेश के हर इण्टर कालेज और महाविद्यालय में इसके लिए प्रयास करते तो प्रदेश के दो करोड़ 45 लाख किसानों को स्वायल हेल्थ कार्ड मिल जाता।

मुख्यमंत्री ने विश्वविद्यालय को व्यवसायिक पाठ्य क्रम चलाने के लिए आगामी बजट में भरपूर धन देने का वायदा किया। श्री योगी ने कहा कि स्वर्गीय रज्जू भैया, अशोक सिंघल और महन्त अवैद्यनाथ के नाम पर बने संस्थान को सरकार हर मदद करने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर राजाराम यादव को जो कार्य योजना का प्रारूप सौंपा है वह उसे प्रदेश के उच्च शिक्षा विभाग में प्रेषित करें। सरकार उसे अगले सत्र से शुरू करने में मदद करेगी। इस मौके पर कुलपति प्रो. राजाराम यादव ने विश्वविद्यालय की उपलब्धियां गिनाते हुए कहा कि देश में पोस्ट डाक्ट्रेट फेलोशिप देने वाला यह पहला विश्वविद्यालय है। साथ ही समय से परीक्षा कराने और उसके परिणाम घोषित करने वाले अग्रणी विश्वविद्यालयों में यह एक है। उन्होंने साथ ही यह बताया कि शोध प्रबंध गंगा के पोर्टल पर डालने वाला यह देश के तीसरे नम्बर का विश्वविद्यालय बन गया है।

अधिक जानकारियों के लिए बने रहिये पंजाब केसरी के साथ