हादसे में दरोगा समेत तीन की मौत


मुरादाबाद: पाकबड़ा थानाक्षेत्र में रविवार तड़के तीन बजे निजी कार को अज्ञात वाहन ने टक्कर मार दी। इस कार में ग्रोथ सेंटर चौकी प्रभारी, एक सिपाही तथा दो अन्य के साथ गश्त करके लौट रहे थे। टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि इनोवा कार के परखच्चे उड़ गए। कार में सवार चौकी इंचार्ज, सिपाही और एक अन्य की मौत हो गई। जबकि कार मालिक/चालक बुरी तरह जख्मी हो गया। घायल को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मौके पर पहुंची पुलिस ने तीनों शव कड़ी मशक्कत के बाद गाड़ी से निकाले और पोस्टमार्टम के लिए भेज दिए। हादसे की जानकारी मिलते ही तीनों परिवारों में कोहराम मच गया। तीनों मृतकों के परिजन रोते-बिलखते मौके पर पहुंच गए। सूचना पाकर सीओ हाइवे ने भी मौका मुआयना किया। पोस्टमार्टम के बाद दरोगा व सिपाही के शव को पुलिस लाइन में सलामी देने के बाद परिजनों को सौंप दिया गया।

पाकबड़ा थाने की ग्रोथ सेंटर पुलिस चौकी प्रभारी शिवकुमार नागर, सिपाही रविकांत के साथ सुबह करीब तीन बजे पाकबड़ा के शनि बाजार निवासी हाजी आलिम की स्विप्ट डिजायर कार से क्षेत्र में गश्त कर रहे थे। साथ में सम्भल जनपद के असमोली थानाक्षेत्र के गांव ओबरी निवासी तीस वर्षीय शमीम पुत्र तस्लीम भी था। गश्त करने के बाद तीनों चौकी लौट रहे थे। पुलिस चौकी के सामने जैसे ही उन्होंने कार मोड़ी की सामने से आ रहे अज्ञात वाहन ने उनकी कार को टक्कर मार दी। टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि कार के परखच्चे उड़ गए। कार सवार सब इंस्पेक्टर शिवकुमार नागर, सिपाही रविकांत वर्मा तथा शमीम की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि चालक व कार मालिक हाजी आलिम बुरी तरह से जख्मी हो गया। एक्सीडेंट के दौरान कार की साइड पूरी तरह से क्षतिग्रस्त होने की वजह से बड़ी मुश्किल से तीनों शव और घायल को बाहर निकाला गया। हादसे की सूचना मिलते ही पाकबड़ा इंस्पेक्टर और सीओ हाईवे मौके पर पहुंच गए।

तीस वर्षीय सब इंस्पेक्टर शिव कुमार नागर मूल रूप से मेरठ के गंगा नगर के निवासी थे। उनका पैतृक गांव भी मेरठ जनपद के भवन थानाक्षेत्र में मुबारकपुर है। शिवकुमार के पिता स्व. कुंवर सिंह नागर भी पुलिस विभाग में थे। पिता की मौत के बाद वर्ष 2013 में शिव कुमार नागर को मृतक आश्रित कोटे में नौकरी मिली थी। उनके परिवार में पत्नी के अलावा दो बेटे हैं। हादसे का शिकार हुआ सिपाही तीस वर्षीय रविकांत वर्मा पुत्र नीलापथ वर्मा मेरठ के मातावाला पंडियान का निवासी था। उसका विवाह डेढ़ साल पूर्व ही शालू के साथ हुआ था। रविकांत का छह महीने का बेटा आरुष है।

जवान बेटे की मौत की खबर मिलते ही मां दयावती व दोनों भाईयों शशिकांत और अशिकांत का रो-रोकर बुरा हाल हो गया। तीसरे मृतक शमीम पुत्र तस्लीम के परिवार में पत्नी शहनाज के अलावा दो बेटी व एक बेटा है। दरोगा और सिपाही मौत पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रीतिंदर सिंह ने भी गहरा दुख प्रकट किया है। उन्होंने घटना पर अफसोस जाहिर करते हुए कहा कि उनकी टीम के दो सदस्यों की अचानक मौत से पुलिस विभाग को गहरी क्षति हुइ है। उन्होंने मृतकों के परिजनों को इस दुखद घड़ी को सहन करने की ईश्वर से शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना की है।

– अमित रस्तोगी