बहन को दिया अनूठा तोहफा और बना नंबर वन भाई


वैसे तो रक्षा बंधन भाई-बहन का पावन त्यौहार है जिसमे बहन अपने भाई की कलाई पर राखी बांधती है और भाई अपनी बहन को उपहार देता है। वैसे तो हर भाई चाहता है कि वो अपनी बहन को एक स्पेशल गिफ्ट दें जिसके लिए वो काफी सोच-विचार भी करते है। लेकिन इस रक्षाबंधन पर एक बहन को उसके भाई ने बड़ा ही अनूठा तोहफा दिया है। जी हां, लखनऊ के गोंडा में रुद्रगढ़ नौसा गांव में एक भाई ने अपनी बहन को शौचालय बनाकर तोहफे में दिया। उस भाई ने कहा, ‘मैं अपनी बहन को परेशानियों का सामना करते हुए नहीं देख सकता हूं।’

मुजेहना ब्लाक की ग्राम पंचायत रूद्रगढ़ नौसी के मजरा पंडित पुरवा में शौचालय गिफ्ट करने वाले भाई-बहनों को डीएम ने गांव में पहुंचकर सम्मानित किया। साथ ही गिफ्ट पाने वाली बहन को डीएम ने गांव का ब्रांड एम्बेसडर बनाये जाने की घोषणा की है। अर्चित पांडेय के पिता दिनेश कुमार एक सफाई कर्मचारी हैं।

दरअसल, यूपी के मुख्यमंत्री योगी ने 31 दिसम्बर 2017 तक प्रदेश के 30 जनपदों को ओपन डेफिकेशन फ्री (खुले में शौच से मुक्त) होने का लक्ष्य रखा हैं। 2 अक्टूबर 2018 तक संपूर्ण प्रदेश को खुले में शौच से मुक्त करने का लक्ष्य रखा गया है। इस दौरान उत्तर प्रदेश के अमेठी जनपद की मुख्य विकास अधिकारी अपूर्वा दुबे ने शौचालय बनाने के अभियान को भाई बहन के प्यार से जोड़ दिया है।

उन्होंने पिछले दिनों एक मुहिम चलाई, इस मुहिम के तहत भाई अपनी बहन को राखी पर एक शौचालय बनाकर भेंट करेगा। ‘अनोखी अमेठी का अनोखा भाई’ इस मुहिम में उन्होंने जनपद के भाइयों से अपील की है कि वे अपनी बहनों को इस रक्षाबंधन में उपहार के रूप में शौचालय बनाकर दें। केवल यूपी में ही नहीं बल्कि झारखंड के धनबाद और जमशेदपुर में भी स्वच्छता अभियान के तहत इस तरह की मुहिम शुरू हुई है कि जो भी अपनी बहन को शौचालय बनाकर देगा वो नंबर वन भाई बन जाएगा।

बता दें कि रक्षा बंधन के दिन अपनी बहन को शौचालय भेंट करने वाले भाई को सम्मानित किया जाएगा। अमेठी में 850 भाईयों ने इस मुहिम को सफलता दी।