आरक्षण खत्म करने पर दी आंदोलन की चेतावनी


गाजियाबाद: जाट समाज को राजस्थान के दोनों जिलों में आरक्षण मिलना चाहिए। अगर केंद्र सरकार जल्द ही जाटों को केंद्र में आरक्षण नहीं देती है और उत्तर प्रदेश के आरक्षण को खत्म करने का प्रयास किया गया तो भाजपा सरकार की जाट समाज ईंट से ईंट बजाने का कार्य करेगा। रविवार को प्रेसवार्ता के दौरान जाट आरक्षण बचाओ महा आंदोलन के चीफ को-आर्डिनेटर ऑल इंडिया धर्मवीर चौधरी ने कहा कि भाजपा सरकार जाट समाज का दोहन कर रही हैं। केंद्र में जाटों का आरक्षण खत्म कर दिया गया, राजस्थान के भरतपुर व धौलपुर में आरक्षण देने की मांग को लेकर जाट समाज के लोगों ने दो दिन ही आंदोलन किया। राजस्थान सरकार की चूलें हिल गई।

राजस्थान सरकार द्वारा मांगे मान लेने के बाद अब केंद्र सरकार द्वारा 9 राज्यों के जाट समाज को केंद्र की पिछड़ा वर्ग सूची में शामिल करने के लिए जाट समाज आंदोलन करेगा। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार को आरक्षण खत्म करना है तो गुर्जरों, यादव, कुर्मी व अन्य पिछड़ी जातियों का भी आरक्षण खत्म करें। यह लोग पिछले 40 साल से आरक्षण का लाभ ले रहे है, धर्मवीर ने कहा कि हाईकोर्ट मेिं मनवीर गुर्जर द्वारा याचिका दायर की गई है। कोर्ट ने प्रदेश सरकार से जवाब मांगा है, हमारी चेतावनी है कि अगर प्रदेश सरकार ने जाट समाज का आरक्षण खत्म करने का प्रयास किया तो उत्तर प्रदेश भी हरियाणा बनने में देर नहीं लगेगी।

उन्होंने भाजपा सांसद बाबूलाल द्वारा जाट समाज को आरक्षण देने की मांग को सही ठहराया। डा. अजय चौधरी व धर्र्मेंद्र चौधरी ने कहा कि जाट समाज के पास खेत-खलिहान खत्म होते जा रहे है, नौकरी मिल नहीं रही। ऐसे में आरक्षण मिलना जरूरी हैं। इस दौरान आनंद चौधरी, प्रदीप चौधरी, सुनील चौधरी, सुधीर चौधरी, जीत चौधरी, सुभाष डबास, बिजेंद्र चौधरी, तपन, भूपेंद्र आदि मौजूद रहे।