यूपी में अब घर बैठे दर्ज करा सकेंगे FIR


लखनऊ : उत्तर प्रदेश के लोग अब घर बैठकर ऑनलाइन रिपोर्ट दर्ज करा सकेंगे और उन्हें थानों के चक्कर लगाने नहीं पडेंगे। इस संबंध में सरकार ने पुलिस अधिकारियों को प्रथम सूचना रिपोर्ट पंजीकरण काउन्टर खोलने के निर्देश दिये है।

गृह विभाग के प्रवक्ता के अनुसार इस संबंध में सरकार ने पुलिस महानिदेशक समेत सभी जोनल अपर पुलिस महानिदेशक, परिक्षेत्रीय और पुलिस महानिरीक्षक, पुलिस उपमहानिरीक्षक तथा वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एवं पुलिस अधीक्षक को आवश्यक निर्देश जारी किये गये है।

उन्होंने बताया कि प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कराने के संबंध में उच्चतम न्यायालय के आदेशानुसार जारी निर्देशों में कहा गया है कि जिला परिक्षेत्रीय एवं जोनल स्तर पर प्रतिदिन यह आंकलन कर लिया जाये कि कितने प्रथम सूचना रिपोर्ट प्रजीकृत किये गये हैं। उनका अनुश्रवण किया जाये तथा समयबद्व तरीके से विवेचना कर अग्रिम कार्रवाई की जाये। इसकी सूचना नियमित रूप से पुलिस महानिदेशक मुख्यालय के कंट्रोल रूम को प्रेषित की जाये। पुलिस महानिदेशक मुख्यालय द्वारा विवेचनाओं की प्रगति की समीक्षा समय समय पर की जायेगी।

गौरतलब है कि इस प्रकार की शिकायतें प्राप्त होती थी कि किसी घटना की प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए पीडित पक्ष को थानों, जिला और मण्डल के विभिन्न स्तरीय पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारियों के कार्यालयों के चक्कर लगाने पड़ते हैं लेकिन फिर भी उनकी प्रथम सूचना दर्ज नहीं की जाती है। अंत में पीडि़त पक्ष द्वारा बाध्य होकर प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए उच्च अधिकारियों या न्यायालय की शरण लेनी पड़ती है। ऐसी प्रवृत्ति के चलते जहां एक ओर जन सामान्य का पुलिस एवं कानून व्यवस्था पर से विश्वास उठ जाता है वही दूसरी ओर इससे शासन की छवि भी धूमिल होती है।

यह भी उल्लेखनीय है कि सरकार द्वारा पूर्व में पुलिस महानिरीक्षक, कानून एवं व्यवस्था के पर्यवेक्षण एवं नियंत्रण के अधीन उत्तर प्रदेश राज्य अपराध अभिलेख ब्यूरो, महानगर, लखनऊ में ई -पुलिस स्टेशन की स्थापना की गयी थी, जिसकी अधिकारिता सम्पूर्ण उत्तर प्रदेश की है ई-पुलिस स्टेशन उत्तर प्रदेश के मोबाइल एवं वेब एप्लीकेशन या अन्य इलेक्ट्रानिक माध्यम से प्राप्त सूचना के आधार पर एफआइआर दर्ज कराई जा सकेगी।

ई-थाने के माध्यम से शिकायतकर्ता कहीं से भी प्रदेश में घटित होने वाले अज्ञात तथा ऐसे अपराध जो गम्भीर प्रकृति के न हो, की प्रथम सूचना का प्रजीकरण उत्तर प्रदेश पुलिस की वेब साइट में करा सकते है। इसके लिए आप अपना एक लॉगइन अकाउंट बनाकर उसे लॉगइन कर शिकायत दर्ज कराना होता है। सरकार ने इसके व्यापक प्रचार प्रसार के भी निर्देश दिये गये है।