42 लाख की लूट का खुलासा, 5 गिरफ्तार


हरिद्वार: गत 18 जुलाई को आईसीआईसीआई बैंक के एटीएम में पैसे डालते समय अज्ञात अभियुक्तों द्वारा धोखाधडी कर 42 लाख रुपयों से भरा बैग उठाकर ले जाने वाले पुलिस के हत्थे चढ़े। बता दें कि हरिद्वार जिले में आइसीआइसीआइ बैंक के भीतर से 42 लाख रुपए का बैग चोरी करने के मामले में पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है। ज्वालापुर पुलिस ने पांच टप्पेबाजों को गिरफ्तार कर लिया है। हालांकि, अभी भी दो आरोपी पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं।

बता दें कि एक निजी कंपनी का कर्मचारी सुनील कुमार एटीएम में पैसे डालने के लिए गया। इस दौरान टप्पेबाज सुनील का झांसा देकर 42 लाख रुपए से भरा बैग लेकर फरार हो गए। इसके बाद से ही पुलिस ने आरोपियों की धर पकड़ की कोशिश तेज कर दी। पुलिस ने एटीएम के अंदर और आसपास लगे सभी सीसीटीवी के फुटेज खंगाले। जिससे पता चला कि इस गिरोह में 6 से अधिक सदस्य हैं जो देखने में दक्षिण भारतीय लग रहे थे। इसके बाद पुलिस ने होटल, धर्मशालाओं को चेक किया। इस दौरान पुलिस को तमिलनाडु के 15 लोगों के रुकने की खबर मिली। पुलिस ने होटल के रजिस्टर से मोबाइल नंबर लिए जो बंद हो चुके थे और पुलिस को उनकी लोकेशन शिरडी मिली।

जिसके बाद पुलिस ने वहां छापा मारकर 5 लोगों को गिरफ्तार कर लिया। इस बाबत एसपीसिटी ममता ने बताया कि ये गिरोह देश के अलग-अलग राज्यों में इस तरह की वारदातों को अंजाम देता है। गिरोह का सरगना कैप्टन उर्फ दीपक फरार है। उन्होंने बताया कि फरार आरोपियों के पास चुरार्इ गर्इ रकम है। जिन्हें पकड़ने के लिए पुलिस टीम तमिलनाडु में डेरा डाले हुए है। पुलिस टीम में प्रभारी निरीक्षक अमरजीत सिंह, गिरीश चन्द शर्मा, उमेश कुमार, सुन्दर लाल, हरवीर सिंह, उमेश कुमार आदि शामिल थे।