रमेश के हत्यारों के खिलाफ कार्रवाई हो


लालकुआं: हरियाणा के गुरुग्राम में मारे गए रमेश बिष्ट के घर चित्रकूट बिन्दुखत्ता पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने जहां उत्तराखंड सरकार से राज्य के भोले-भाले युवाओं को रोजगार दिलाने के नाम पर झांसे में लेकर दूसरे प्रदेशों में ले जाने वाले जालसाजों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। वहीं हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से दूरभाष पर वार्ता कर रमेश हत्याकांड के मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर सभी हत्यारों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई करने और रमेश के परिवार को मुआवजा देने को कहा। श्री रावत बिन्दुखत्ता के चित्रकूट स्थित पूर्व सैनिक रतन सिंह बिष्ट के घर पहुंचे। रतन सिंह के पूरे परिवार व आस-पड़ोस के लोगों ने हरियाणा के गुरुग्राम में हुई घटना से पूर्व मुख्यमंत्री को विस्तार पूर्वक अवगत कराया।

इस दौरान बिन्दुखत्ता के लोगों का कहना था कि क्षेत्र में सक्रिय कुछ जालसाज सीधे-साधे पहाड़ के युवाओं से कमीशन लेकर उन्हें बड़े प्रदेशों में अच्छी नौकरी दिलाने का झांसा देकर भेज रहे हैं और जहां इस क्षेत्र के युवा जाते हैं वहां उनके साथ अमानवीय व्यवहार किया जाता है। जिसका जीता जागता उदाहरण रमेश हत्याकांड है। क्षेत्रवासियों ने एक हस्ताक्षरित ज्ञापन पूर्व मुख्यमंत्री को देते हुए कहा कि पहाड़ के युवाओं को इस प्रकार छलने वालों के विरुद्ध सख्त कानूनी कार्रवाई होनी चाहिए।

साथ ही उन्होंने रमेश हत्याकांड के मुख्य आरोपी की अब तक गिरफ्तारी न होने पर गहरा आक्रोश जताया। इस दौरान हरीश चंद्र दुर्गापाल, प्रयाग दत्त भट्ट,आनंद रावत, रामबाबू मिश्रा, धर्म सिह, हेमवती नंदन दुर्गापाल, गिरधर बम, बलवन्त दानू, सरदार गुरदीप सिंह, अनीस अहमद, बालम सिंह बिष्ट, एनके कपिल, भुवन पांडे,हरीश बिसौती, जीवन कबड़वाल, बीना जोशी सहित भारी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ साथ बिन्दुखत्ता के ग्रामीण भी मौजूद थे।

– अग्निहोत्री