नौ आरोपियों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल


नैनीताल: उत्तराखंड के बहुचर्चित राष्ट्रीय राजमार्ग-74 (एनएच) मुआवजा घोटाले में निलंबित किए गए नौ कर्मचारियों के खिलाफ आज आरोप पत्र दाखिल कर दिए गए हैं। एनएच-74 घोटाले में रजिस्ट्रार कानूनगो, राजस्व निरीक्षक, पेशकार, डाटा इंट्री ऑपरेटर और तीन सेवानिवृत्त राजस्व निरीक्षक शामिल हैं। निलंबित चल रहे इन कर्मचारियों पर विभागीय जांच भी शुरू कर दी गई है। राजमार्ग के चौड़करण की आड़ में हुए मुआवजा घोटाले में अब जांच और तेज हो गयी है। सात पीसीएस अफसरों और नौ कर्मचारियों पर निलंबन की कार्रवाई के बाद अब आरोप पत्र देने का सिलसिला शुरू हो गया है। नौ कर्मचारियों के खिलाफ आरोप पत्र तैयार कर लिए गए हैं। इनमें संविदा पर तैनात चार डाटा इंट्री ऑपरेटर भी शामिल हैं।

जिन कर्मचारियों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किए गए हैं, उनमें सितारगंज का राजस्व अहलमद संतराम भी शामिल है। उसे मुआवजा घोटाले से संबंधित दस्तावेज फाड़ने का आरोप है। इसके अलावा सितारगंज के ही रजिस्ट्रार कानूनगो हेमराज सिंह चौहान, बाजपुर के रजिस्ट्रार कानूनगो पंकज कुमार, बाजपुर के ही राजस्व निरीक्षक कुंवर सिंह, एसडीएम सदर के पेशकार विकास, जसपुर के पेशकार सतपाल सिंह, जसपुर के ही रजिस्ट्रार कानूनगो चंद्रपाल, जसपुर के संग्रह अमीन अनिल कुमार शामिल हैं। काशीपुर के राजस्व अहलमद संजय कुमार चौहान के खिलाफ भी आरोप पत्र दाखिल कर दिया गया है। वहीं, सेवानिवृत्त राजस्व निरीक्षक कमालुद्दीन पर भी कार्रवाई की तैयारी चल रही है। इन सभी पर विभागीय कार्रवाई शुरू कर दी गई है।