मुख्यमंत्री ने प्रभु से कुमायूं क्षेत्र में भी रेल मार्गों को स्वीकृति देने का अनुरोध किया


देहरादून: उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने केंद्रीय रेल मंत्री सुरेश प्रभु से राज्य के कुमायूं क्षेत्र में भी रेल मार्गों की स्वीकृति दिए जाने का अनुरोध किया है। कल बदरीनाथ में चारधाम रेल सम्पर्क के अंतिम सर्वेक्षण के शिलान्यास के अवसर पर पहुंचे प्रभु को मुख्यमंत्री रावत ने इस संबंध में पत्र सौंपा। मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी मौसमों वाली सड़क तथा चारधाम रेल सम्पर्क योजना के रूप में केंद, सरकार ने उथराखण्ड को बड़ी सौगात दी है।

यहां जारी एक सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार, उथराखण्ड में पर्यटन की अपार संभावनाओं के मद्देनजर कनेक्टिविटी को बहुत जरूरी बताते हुए मुख्यमंत्री ने हालांकि कहा कि राज्य सरकार भी पर्यटन के नए क्षेत्रों के विकास के लिए योजना बना रही है। रावत ने कहा कि कुमायूं क्षेत्र में पर्यटन और विकास की अन्य गतिविधियों के लिए टनकपुर से पिथौरागढ़-बागेश्वर एवं रामनगर-चौखुटिया रेल मार्ग बहुत जरूरी हैं और ये सामरिक दृष्टि से भी महत्वपूर्ण हैं।

मुख्यमंत्री ने रेल मंत्री से वर्तमान में अवरऊद्ध दिल्ली-कोटद्वार ट्रेन की सेवाएं भी यथाशीघ्र प्रारम्भ करने का अनुरोध किया जिससे कि उथराखण्ड के लोगों के साथ-साथ पर्यटकों को भी सुविधा मिले। रेल मंत्री प्रभु ने रावत के अनुरोध पर हरसम्भव कार्यवाही का आश्वासन देते हुए कहा कि वह प्रदेश में रेल विस्तार के संबंध में चर्चा के लिए जल्द ही फिर से देहरादून आएंगे।

-भाषा