बच्चे देश के कर्णधार


child ut

हरिद्वार: हरकी पौड़ी के निकटवर्ती झुग्गी झोपड़ियों में रहने वाले परिवारों के नौनिहाल अब गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में सुसंस्कारिता का पाठ भी पढ़ेंगे, तो वहीं संगीत व डांस की रुचि रखने वाले बच्चे अपनी प्रतिभा निखार सकेंगे। झुग्गी झोपड़ियों के इन बच्चों को पढ़ाने व उनकी प्रतिभा को विकसित करने के लिए एसएसपी श्री कृष्ण कुमार वीके की धर्मपत्नी श्रीमती शीबा केके वीके व एएसपी रचिता जुयाल व एसपी सीटी ममता बोहरा ने पहल की और बच्चों में सुसंस्कारिता के बीच बोने के लिए शांतिकुंज का सहयोग मांगा। शांतिकुंज ने भी देश के भावी कर्णधारों को तैयार करने में अपना हाथ बढ़ाया।

इन बच्चों के लिए चलाई जाने वाली बाल संस्कार शाला की श्रीमती शीबा केके वीके एवं शांतिकुंज व्यवस्थापक ने संयुक्त रूप से दीप जलाकर शुभारंभ किया। इस अवसर पर बच्चों को संबोधित करते हुए शांतिकुंज व्यवस्थापक ने कहा कि बच्चे देश के भावी कर्णधार हैं। कच्ची उम्र में सुसंस्कारिता के बीज बोने से ये बच्चे सभ्य नागरिक के रूप मे विकसित होंगे।

शांतिकुंज रचनात्मक प्रकोष्ठ के प्रभारी श्री केदार प्रसाद दुबे ने बच्चों को प्रेरणाप्रद कहानियों के माध्यम पढ़ाई के लिए प्रेरित किया, तो वहीं शरीर को स्वस्थ रखने के लिए योगाभ्यास भी कराया। श्रीमती शीबा के अनुसार ये बच्चे नियमित रूप से शांतिकुंज के कुशल नेतृत्व में आगे बढ़ने के लिए सैद्धांतिक व व्यावहारिक प्रशिक्षण के हिस्से बनेंगे। इन बच्चों के प्रशिक्षण और भोजन की व्यवस्था भी शांतिकुंज कर रहा है। श्रीमती शीबा ने शांतिकुंज के उदारमना सहयोग के लिए बहुत सराहना की। इस अवसर पर शांतिकुंज के श्री हरिमोहन गुप्ता, श्रीमती शीबा की टीम के सदस्य मीना कंडपाल, शुकिता मुंडेवी, क्षमा शर्मा आदि उपस्थित रहे।

– संजय चौहान