कोटद्वार में बादल फटा छह की मौत


कोटद्वार: उत्तराखंड में जोरदार बारिश के चलते लोगों में मुसीबत का पहाड़ भी टूटता जा रहा है। पौड़ी जिले में कोटद्वार के पनियाला गदेरे (बरसाती नाला) में बादल फटने से कई गांवों में मलबा घुस गया। मलबे में दबने और नाले में बहने से छह लोगों की मौत हो गई। सारा इलाका जलमग्न हो गया। एसडीआरएफ की टीम मौके पर रेस्क्यू कर रही है। रिफ्यूजी कालोनी में पनियाला नाले के उफान में लक्ष्य अरोड़ा पुत्र सीपी अरोड़ा और ज्योति अरोड़ा पत्नी दर्शन की पानी में बहने से मौत हो गई। वहीं, मानपुर गांव में सुरक्षा दीवार ढहने से इसके मलबे में दबकर शांति देवी पत्नी राई सिंह व अजीत कुमार पुत्र बालक राम की मौत हो गई।

उधर, तहसील कोटद्वार के अंतर्गत पट्टी सीला के रामागांव में एक मकान की दीवार ढहने से इसकी चपेट में आने से इदरीश की पुत्री मुस्कान बानो (16) की मौत हो गई। हादसा सुबह करीब नौ बजे हुआ। पानी की तीव्रता का अंदाज इस बात से लगाया जा सकता है कि मृतकों में एक महिला का शव उसके घर से लगभग सौ मीटर दूर मलबे में दबा मिला। इस आपदा में मरने वालों में दो बच्चे सहित पांच लोग शामिल हैं। जिलाधिकारी ने मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख रुपये की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की है और जिनके घरों को नुकसान पहुंचा है उन्हें पचास हजार रुपये की आर्थिक राशि की घोषणा की। पौड़ के जिलाधिकारी सुशील कुमार ने कोटद्वार पहुँचकर, बचाव एवं राहत कार्यों का जायजा लिया और प्रशासन को आवश्यक निर्देश दिए।

पुलिस प्रशासन और राहत एवं बचाव कर्मी बचाव कार्य में लगे हुए हैं। जिलाधिकारी ने कहा जिन लोगों के घरों को नुकसान पहुंचा है, उन्हें नजदीक की एक धर्मशाला में स्थानांतरित किया गया है और प्रशासन बचाव कार्य में लगातार लगा हुआ है। मूसलाधार बारिश से झंडाचौक पानी से लबालब हो गया। सड़क तालाब में बदल गई, जिसमें वहां खड़े दुपहिया वाहन आधे पानी में डूब गए। पानी में डूबे वाहनों को बारिश रुकने के बाद ही बाहर निकाला गया। बारिश के कारण स्टेशन रोड़ पर बड़े-बड़े गड्ढे़ बन गए हैं। जिससे राहगीरों को परेशानी का सामना करना पड़ा। दोहपर से शुरू हुई मूसलाधार बारिश से नगर की कई सड़कों पर पानी भर गया। झंडाचौक में बारिश के कारण दुकानों के अंदर तक पानी घुस गया।

(राजेन्द्र शिवाली)