रोजगार परक खेती के लिए किया प्रोत्साहित


मसूरी: उत्तराखंड में पलायन रोकने के सरकारी स्तर के साथ ही प्राइवेट स्तर पर भी प्रयास किए जा रहे हैं। इसी कड़ी में कीर्तिनगर ब्लाक के दूरस्थ गांव धार पयांकोटी में हर्बल की खेती की जा रही है। जिसमें हर्बल के साथ नकदी फसलें उगाई जा रही हैं तथा ग्रामीण युवाओं को खेती के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। मसूरी निवासी धर्मपाल पंवार ने बताया कि धार पयांकोटी में अजय पंवार उद्यान विभाग के सहयोग से 54 ग्रामीण करीब 16 एकड़ भूमि पर हर्बल की खेती कर रहे हैं। इस भूमि का मनरेगा से सुधारीकरण कर सिंचाई के लिए 20 हजार लीटर पानी का टैंक ग्राम्य विकास विभाग ने बना कर दिया। वर्तमान में यहां इटालियन रोज, रोजमेरी फ्रेेंच, टमाटर, बैंगन, सहित विभिन्न प्रकार की खेती कर अच्छी आय अर्जित की जा रही है।

टिहरी जिले के मुख्यविकास अधिकारी आशीष भटगांई एवं एसडीएम नूपुर वर्मा ने अधिकारियों के साथ हर्बल खेती का निरीक्षण किया व खेती के बारे में जानकारी ली। उन्होंने कहा कि ग्रामीणों का यह प्रयास सराहनीय है, इससे आसपास के ग्रामीण युवाओं को प्रेरणा लेनी चाहिए व अपनी खेती को रोजगार परक बनाना चाहिए। उन्होंने कहा कि जो अपनी खेती को रोजगार परक बनाना चाहते हैं,उन्हें मनरेगा से पूरा सहयोग दिया जायेगा। इस मौके पर उन्होंने ग्रामीणों को सरकार की कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी भी दी। इस मौके पर धर्मानंद सकलानी, यशपाल सिंह, हरीसिंह परमार, धर्मलाल आदि मौजूद रहे।