बीडीसी बैठक में ग्राम प्रधानों का हंगामा


रुद्रपुर: बीडीसी की बैठक में ग्राम प्रधानों ने बहिष्कार करके हंगामा किया। ग्राम प्रधानों का कहना है कि राज्य वित्त से ग्राम सभाओं को मिलने वाले बजट में 60 फीसदी तक की कटौती की गई है। साथ ही मनरेगा के अंतर्गत बजट नहीं दिया जा रहा है, जबकि वह गांवों में काम करा चुके हैं। बाद में प्रधानों ने मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन सौंपा। प्रधानों ने तीन जुलाई को सामूहिक इस्तीफा देने का ऐलान किया है। ग्राम प्रधान संघ के जिलाध्यक्ष विकास शर्मा ने कहा कि सरकार से मिलने वाले राज्य वित्त की निधि में कटौती कर दी गई है। जिससे ग्राम पंचायतों का विकास बाधित हो गया है। राज्य वित्त की धनराशि से होने वाले स्वच्छता कार्य कराए जाते हैं।

बजट में कटौती करने से कार्यों पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है। विकास कार्य ठप पड़े हैं। प्रधानों ने कहा कि मनरेगा से उन्होंने कार्य कराए, लेकिन बजट रिलीज नहीं हो रहा है, जिससे श्रमिक भुगतान के लिए उनके घरों के चक्कर लगा रहे हैं। गांव में मनरेगा से होने वाले कार्य भी ठप हो गए हैं। उनका कहना है कि स्वच्छ भारत मिशन के तहत ग्राम पंचायतों में बनने वाले शौचालयों के निर्माण के बाद उनका भुगतान नहीं हो पा रहा है।

– सुरेन्द्र तनेजा