दलित उत्पीड़न के विरोध में हरीश रावत का उपवास


harish-rawat

हरिद्वार : पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने भाजपा सरकार पर दलितों को डरा धमका कर अपने पाले में करने का प्रयास करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि दलितों के उत्थान का सरकार का दावा इस तरह से पूरा नहीं होगा। पूर्व सीएम रावत ने हरिद्वार पहुंचकर दलित उत्पीड़न के विरोध में उपवास व कीर्तन किया। ज्वालापुर के दलित बाहुल्य कड़च्छ मौहल्ले के रविदास मंदिर में आयोजित इस कार्यक्रम में दलित समुदाय के लोगों के अलावा जिले भर के कांग्रेस नेता भी शामिल हुए।

उपवास के लिए देहरादून से हरिद्वार पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि उत्तराखंड व उत्तर प्रदेश सहित भाजपा शासित राज्यों में दलितों पर लगातार अत्याचार व उत्पीड़न किया जा रहा है। भाजपा और केंद्र व राज्य की सरकारें एक तरफ दलित उत्थान के दावे कर रही हैं, तो दूसरी तरफ दलितों को सरेआम पीटा जा रहा है और उन पर जुल्म किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि डरा धमका कर उनका भला नहीं किया जा सकता है।

जिला पंचायत उपाध्यक्ष राव आफाक अली ने कहा कि भाजपा संविधान में यकीन नहीं रखती है, इसलिए दलितों पर अत्याचार किया जा रहा है। भारत बंद के बाद दलितों के खिलाफ झूठे मुकदमे दर्ज कर उन्हें डराया धमकाया जा रहा है, लेकिन कांग्रेस दलितों पर अत्याचार नहीं सहेगी। इस मौके पर प्रदेश प्रवक्ता मनीष कर्णवाल, पूर्व राज्य मंत्री मकबूल कुरैशी, नईम कुरैशी, राजबीर सिंह चौहान, सेवादल के प्रदेश मुख्य संगठक राजेश रस्तौगी, किरण सिंह, अंजू द्विवेदी, विमला पांडेय, पूर्व सभासद सरफराज गौड़, सुनीत कुमार, गुलबहार खान, धर्मेंद्र अंबूवाला, संदीप गौड, समीर अंसारी आदि मौजूद रहे।

हमारी मुख्य खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें।

– संजय चौहान