शिवालयों में उमड़े श्रद्धालु


हरिद्वार: सावन के अंतिम सोमवार को गंगानगरी हर-हर महादेव, ओम नम: शिवाय और बोल बम के जयकारों से शिवमय हो गई। आखरी सोमवार को मंदिरों में जमकर सजावट की गई और पूजा के लिए श्रद्धालुओं का तांता अल सुबह से ही लग गया, साथ ही गंगा में हजारों श्रद्घालुओं ने डुबकी भी लगायी। हरिद्वार में कनखल स्थित दक्षेश्वर महादेव मंदिर सहित सभी शिवालयों में शिवभक्तों का सैलाब उमड़ा रहा। धर्मनगरी में सावन के अंतिम सोमवार पर भोर से ही अजब नजारा देखने को मिला।

पूरी गंगानगरी भगवान राम के आराध्य शिव के जयकारे से गूंजी। भगवान आशुतोष की ससुराल दक्ष नगरी स्थित दक्षेश्वर महादेव मंदिर के दरबार में तो जैसे शिवभक्तों का सैलाब उमड़ पड़ा है। यहां पर सुबह तीन बजे से श्रद्धालुओं की भीड़ शुरु हो गई थी। लाखों श्रद्धालुओं ने मां गंगा में डुबकी लगाने के बाद विभिन्न शिवालयों का जलाभिषेक किया। वैसे भीड़ का आलम यह है कि लोगों को जलाभिषेक के लिए घंटो खड़ा रहना पड़ रहा है। इस दौरान पुलिस व्यवस्था भी शिव भक्तों के आगे बौनी हो गई।

दक्ष मंदिर के अलावा बिल्वकेश्वर महादेव, नीलेश्वर महादेव मंदिर, गौरी शंकर महादेव मंदिर, तिल भांडेश्वर, दारिद्र भंजन, अर्द्धनारीश्वर महादेव मंदिर सहित सभी शिवालय में जलाभिषेक के लिए भक्तों का जमावड़ा लगा रहा। मंदिरो में पुलिस प्रशासन की और से सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये गए। उधर, आज ग्रहण होने के कारण व्रत का पारण दोपहर में मंदिर के कपाट बंद हो गए थे। सूतक लगने के कारण मंदिरों में सुबह से ही जलाभिषेक के लिए भीड़ जमा रही और दोपहर 12:30 बजे के बाद मंदिरों के कपाट बंद हो गए, देर रात तक सूतक हटने के बाद ही खुले। सभी शिव भक्त इससे पहले अपनी पूजा सुनाकर जलाभिषेक करने को आतुर दिखे।

– संजय चौहान