गन्ना भुगतान में हेराफेरी की जांच शुरु


हरिद्वार: लक्सर चीनी मिल के अगेती प्रजाति के अनुरूप गन्ना भुगतान नहीं किये जाने के मामले में गठित जांच दल ने काशीपुर से लक्सर पहुंचकर जांच पड़ताल की। बता दें कि समाप्त हो चुके वर्तमान पेराई सत्र के दौरान चीनी मिल ने 96268 तथा 98247 प्रजाति के गन्ने को पछेती मानते हुए खरीद से इन्कार कर दिया था। इस पर स्थानीय किसान धरने पर बैठ गए थे, जिसके बाद मिल प्रबंधन तथा किसानों के बीच गन्ना विभाग व प्रशासन के अधिकारियों की मध्यस्थता में हुई बैठक में इस पेराई सत्र में गन्ने की खरीद को लेकर समझौता हो गया था।

किसानों का कहना है कि मिल प्रबंधन की ओर से समझौते में उक्त दोनों प्रजातियों को इस सत्र में अगेती प्रजाति के रूप में खरीदने की बात कही गई थी। लेकिन बाद में मिल ने इसका भुगतान पछेती प्रजाति के रूप में दस रुपये प्रति कुंतल कम की दर से किया। इसी को लेकर भारतीय किसान संघ के एक प्रतिनिधिमंडल ने गन्ना मंत्री प्रकाश पंत से मुलाकात कर मामले की जांच कराने तथा कार्रवाई की मांग की थी। गन्ना मंत्री की ओर से गन्ना आयुक्त को मामले की जांच के आदेश दिए गए थे। जिस पर गन्ना आयुक्त आंनद शर्मा ने एक तीन सदस्यीय जांच टीम का गठन कर रिपोर्ट देने के आदेश दिए थे।

– संजय चौहान