पतंजलि में अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन प्रारम्भ


हरिद्वार: पतंजलि योगपीठ में भारत के नेपाली भाषा भाषियों का संगठन हाम्रो स्वाभिमान न्यास के तीन दिवसीय योगशिविर एवं चतुर्थ अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन का शुभारम्भ हुआ। इस सम्मेलन में देश भर के अलग-अलग प्रांतों में निवास करने वाले नेपाली भाषी लगभग दो हजार की संख्या में भाई-बहिन शिविर के सहभागीदार बने। शिविर के दौरान उन्हें योग, आयुर्वेद के शिक्षण के साथ-साथ देश भर मेें निवास कर रहे लाखों नेपाली भाषा-भाषियों को शिक्षा, चिकित्सा, स्वावलम्बन के सहारे सशक्त एवं समृद्धिशाली बनाने पर चिंतन किया जायेगा। अपने उद्बोधन में स्वामी महाराज ने कहा पतंजलि योगपीठ देश के प्रत्येक नागरिक को योग, आयुर्वेद, स्वास्थ्य, शिक्षा, स्वदेशी, अनुसंधन के माध्यम से स्वस्थ्य, सशक्त एवं समृद्धशाली बनाने में सेवारत है।

उन्होंने अागे कहा पतंजलि देश भर के नेपाली भाषा-भाषियों के उत्थान में भी महत्वपूर्ण योगदान देने हेतु प्रतिबद्ध है। पतंजलि योगपीठ के महामंत्री आचार्य बालकृष्ण महाराज ने कहा बिछड़ों को मिलाना एवं पिछड़ों को उठाना पतंजलि के संकल्प में है। उन्होंने कहा देश के भिन्न-भिन्न प्रांतों में अपने ढंग से जीवन जी रहे नेपाली भाषा-भाषियों को एक मंच मिलने पर उनमें सृजन के लिए नया उत्साह जन्म लेगा। आचार्य श्री ने कहा हाम्रो स्वाभिमान न्यास इस दिशा में न केवल सशक्त प्लेटफार्म साबित हो रहा है, अपितु भावी पीढ़ी को सही दिशा मिले इस निमित्त योग, आयुर्वेद, अनुसंधान की दिशा में कदम बढ़ाने में पतंजलि हर सम्भव प्रयास करेगा। इस अवसर पर नारायण श्रेष्ठ,प्रेमकुमार, मोहन कार्तिक, देवेन्द्र दत्त आदि ने अपने विचार रखे।