कांवड़ मेला: तैयारियों में जुटा शासन-प्रशासन


हरिद्वार: इस बार कांवड़ यात्रा में अधिक पुलिस फोर्स की तैनाती की जाएगी। देश-विदेश में हो रही आतंकी घटनाओं से सुरक्षा के मद्देनजर एवं अधूरे पड़े दिल्ली हरिद्वार राष्ट्रीय राजमार्ग से अतिरिक्त पुलिसकर्मियों की तैनाती करने से अधिक फोर्स की मांग की है। रेपिड एक्शन फोर्स एवं एसएसबी की तीन कंपनियां जल्द हरिद्वार पहुंचेंगी। बताते चलें कि 9 जुलाई से कांवड़ यात्रा शुरू होने जा रही है। वर्ष 2016 में कांवड़ियों की संख्या तीन करोड़ 25 लाख दर्ज की गई थी। इस बार कांवड़ियों की संख्या अधिक होने की संभावना जताई जा रही है। इसके लिए तैयारियों में शासन-प्रशासन जुटा है, लेकिन अधूरा हाईवे कहीं न कहीं पुलिस की राह में रोड़ा बनता जा रहा है।

वहीं, पुलिस को फिलहाल ये चिंता सता रही है कि अधूरे हाईवे में चलने के दौरान कांवड़ियों को समस्या न झेलनी पड़े, इससे व्यवस्था में व्यवधान उत्पन्न हो सकता है। इसके चलते पुलिस की ओर से इस बार मुख्यालय से अधिक फोर्स की मांग की है, ताकि कांवड़ियों के हंगामा करने की स्थिति पर उन्हें काबू किया जा सके। वर्ष 2017 में अर्द्धसैनिक बल की 10 कंपनियां मांगी है, जबकि पिछले वर्ष 2016 में छह कंपनियां ही कांवड़ में मिल सकी थी। इस संदर्भ में एसपी सिटी ममता बोहरा ने बताया कि आरएएफ, एसएसबी समेत अर्द्धसैनिक बल की दस कंपनियां मिलने की उम्मीद है। बीस कंपनियां आइआरबी द्वितीय व पीएसी तैनात की जाएंगी।

हरकी पैड़ी समेत कांवड़ पटरी एवं महत्वपूर्ण चौराहों पर अर्द्धसैनिक बल के मोर्चे बनाकर तैनात किए जाएंगे। कांवड़ मेला सेल के सदस्य एसआइ मोहन ¨सह ने बताया कि अधूरे हाईवे के चलते अधिक फोर्स लगाना पड़ रहा है। विभिन्न जिलों से फोर्स मांगा है। चार हजार पुलिसकर्मी कांवड़ यात्रा की ड्यूटी में तैनात किए जाएंगे। एसएसबी की एक कंपनी व आरएएफ की दो कंपनियां जल्द हरिद्वार पहुंचेगी।