दो बहनों की मौत से भड़के परिजन


कोटद्वार:राजकीय संयुक्त चिकित्सालय कोटद्वार में दो सगी बहनों की उपचार के दौरान मौत हो गई। दो सगी बहनों की मौत से घर-परिवार में कोहराम मच गया। वहीं, अस्पताल में इलाज कराने के बाद हुई दोनों मौत से परिजन भड़क उठे। उन्होंने डाक्टरों पर गलत उपचार का आरोप लगाते हुए अस्पताल में जमकर हंगामा काटा। इस दौरान परिजनों ने सीएमएस के साथ धक्का-मुक्का भी की।

हंगामे की सूचना मिलते ही पुलिस फोर्स मौके पर पहुंची और किसी तरह लोगों को शांत कराया। सीएमएस डाॅ. आईएस सामंत ने बताया कि यह सस्पेक्टेड प्वॉइजनिंग का मामला है। उल्टी-दस्त से इस प्रकार की मौत नहीं होती। बहनों का इलाज कर करने वाले डाॅ. निनियामिन अंसारी ने कहा कि इलाज के दौरान दोनों के मुंह से झाग निकल रहा था। उनको बड़े अस्पताल ले जाने की सलाह दी गई थी।

बिजनौर के शेरकोट निवासी धर्मेंद्र सिंह बालासौड़ गांव में किराए पर रहते हैं। वह कोटद्वार में रंगाई पुताई का काम करते हैं। उनकी बड़ी बेटी शिवानी (18) और छोटी बेटी संध्या (16) की सुबह करीब साढ़े पांच बजे अचानक तबीयत बिगड़ गई। उल्टी-दस्त होने पर सुबह छह बजे दोनों को राजकीय संयुक्त चिकित्सालय कोटद्वार की इमरजेंसी में भर्ती कराया गया। यहां डाक्टर ने दोनों को इंजेक्शन लगाकर घर भेज दिया।

दोपहर तक दोनों की हालत में कोई सुधार नहीं हुआ तो दिन में करीब ढाई बजे बड़ी बेटी शिवानी को फिर से अस्पताल ले जाया गया, जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। इस बीच, दूसरी बेटी संध्या को भी इमरजेंसी में भर्ती कर दिया गया। करीब डेढ़ घंटे के उपचार के बाद संध्या ने भी अस्पताल में दम तोड़ दिया।