पुलिस सुरक्षा में खुले टेंडर


हल्द्वानी: लोक निर्माण विभाग के टेंडरों में धांधली का आरोप लगाते हुए ठेकेदारों ने लोनिवि के अधिशासी अभियंता के कार्यालय में जमकर हंगामा काटा। बाद में पुलिस सुरक्षा के बीच टेंडर निकाले गए। लोनिवि विभाग के ईई के समक्ष हंगामा कर रहे ठेकेदारों का आरोप था कि अधिकारियों की मिलीभगत से तीन दिन पूर्व गुपचुप तरीके से टेंडर डलवाए गए। जबकि विभाग दो माह से पूर्व में किए गए निर्माण कार्यों का भुगतान नहीं कर रहा है। जिस कारण ठेकेदार कार्यबहिष्कार में चल रहे थे। उनका यह भी आरोप था कि चहेतों को फायदा पहुंचाने के लिए विभागीय अधिकारियों व कर्मचारियों द्वारा काफी कम दरों में टेंडर आवंटित कर दिए। जिससे सरकार को राजस्व का नुकसान उठाना पड़ रहा है। ठेकेदारों का कहना था कि विभाग पर उनकी करोड़ों रुपये की देनदारी है, लेकिन विभागीय अधिकारी बजट न होने का राग अलाप कर उन्हें महज कोरे आश्वासन दे रहे हैं।

इससे आक्रोशित ठेकेदार गुरूवार की प्रातः 10 बजे कांट्रेक्टर वैलफेयर सोसाइटी के बैनरतले ईई कार्यालय आ धमके। इस दौरान टेंडर निरस्त करने की मांग को लेकर उनकी ईई रणजीत सिंह रावत से काफी झड़प भी हुई। मामला बिगड़ता देख भोटिया पड़ाव चौकी पुलिस मौके पर पहुंच गई। पुलिस ने हंगामा कर रहे ठेकेदारों को बमुश्किल शांत कराया। साथ ही निर्णय लिया गया कि पुलिस सुरक्षा के बीच टेंडर खोले जाएंगे। अपरान्ह में पुलिस चौकसी के बीच टेंडर प्रक्रिया संपन्न कराई गई। हंगामे के दौरान राजेंद्र नेगी, पंकज शर्मा, उपेंद्र कनवाल, दिनेश प्रसाद, निखिल पांडे, जितेंद्र जोशी, इसरार अहमद आदि शामिल रहे।

– संजय तलवाड़