राज्य भंडारण गोदाम में छापेमारी


रुद्रपुर: अपर जिलाधिकारी जगदीश कांडपाल ने एसपी सिटी देवेंद्र पिंचा के साथ राज्य भंडारण गोदाम में स्टाक में गड़बड़ी की आशंका में छापा मारा। छापे के दौरान मार्केटिंग इंस्पेक्टर नदारद मिला। काफी खोजबीन के बाद मार्केटिंग इंस्पेक्टर मिला तो एडीएम ने उसे फटकार लगाई। उन्होंने श्रमिक लगाकर स्टाक का सत्यापन शुरू कराया। अपर जिलाधिकारी श्री कांडपाल ने संयुक्त मजिस्ट्रेट युक्ता मिश्रा एवं एसपी सिटी देवेंद्र पिंचा के साथ बुधवार की दोपहर काशीपुर बाईपास स्थित उत्तराखंड राज्य भंडारागार में छापा मारा तो वहां हड़कंप की स्थिति उत्पन्न हो गई।

दरअसल, श्री कांडपाल ने कल शाम भी औचक निरीक्षण किया था, इसलिए कर्मचारी इस बात से आश्वस्त थे कि अब कोई नहीं आएगा। छापे के दौरान मार्केटिंग इंस्पेक्टर सुधीर कुमार मौके पर मौजूद नहीं थे। जिस पर कर्मचारी उन्हें तलाश करने गए। काफी देर बाद मार्केटिंग इंस्पेक्टर पहुंचे तो एडीएम ने उनसे नाराजगी व्यक्त की। चावल के कट्टों पर गर्वमेंट ऑफ पंजाब लिखा होने पर उन्होंने संदेह व्यक्त किया तो उन्हें बताया कि कट्टे के दूसरी ओर यह लिखा है कि कट्टे का आवंटन किस राज्य को हुआ है। राज्य भंडारागार में सीएमआर व राज्य पोषित योजना का चावल रखा था।

जिस पर उन्होंने दोनों योजनाओं के चावल के कट्टों को अलग-अलग कराना शुरू किया। साथ ही कहा कि जो कट्टा इन दोनों योजनाओं में से न होना स्पष्ट हो उसे अलग रखा जाए। अपर जिलाधिकारी ने बताया कि कल शाम वह निरीक्षण को पहुंचे तो उन्हें स्टाक में गड़बड़ी की आशंका हुई, लेकिन शाम वक्त ज्यादा हो गया था इसलिए उन्होंने आज स्टाक सत्यापन का कार्य शुरू कराया है। उन्होंने कहा कि जांच में यदि कहीं अनियमितता पाई जाती है तो संबंधितों के खिलाफ कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। एडीएम ने स्पष्ट किया कि वह चावल की गुणवत्ता की जांच नहीं कर रहे हैं। बहरहाल, कर्मचारियों के चेहरों के रंग उड़े हुए दिखाई दिए जो इस बात का संकेत दे रहे थे कि कहीं न कहीं कुछ गड़बड़ी जरूर है।

– सुरेन्द्र तनेजा