राम मंदिर निर्माण अगले साल शुरू होने की उम्मीद : सुब्रमण्यम स्वामी


देहरादून : भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी  आज आशा प्रकट की कि अगले साल अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण शुरू हो जायेगा । नारद जयंती के अवसर पर यहां बतौर मुख्य अतिथि दिये अपने संबोधन में स्वामी ने कहा कि वह अगले महीने की सात तारीख को अयोध्या में विभिन्न संगठनों से बातचीत करेंगे । उन्होंने उम्मीद जतायाी कि उनकी याचिका पर उच्चतम न्यायालय में सुनवाई पूरी कर ली जायेगी। उन्होंने कहा, ”यह मेरी आस्था का विषय है कि जहां रामलला पैदा हुए, मंदिर वहीं बनना चाहिये। मुसलमान अपनी मस्जिद सरयू नदी के दूसरी तरफ बना सकते हैं।” उन्होंने बताया कि उच्चतम न्यायालय में अपनी याचिका में उन्होंने कहा है कि संविधान की धारा 25 के तहत उनको यह मूलभूत अधिकार है कि वह राम मंदिर में पूजा कर सकें।

जम्मू-कश्मीर पर बोलते हुए स्वामी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर पर लागू धारा 370 को भी हटा देना चाहिये। उन्होंने कहा कि धारा 370 को लगाये जाते समय उसे अस्थायी करार दिया गया था। उन्होंने कहा, ‘धारा 370 को हटाना कोई कठिन बात नहीं है। इसके लिये संसद की अनुमति भी नहीं चाहिये।’सुब्रमण्यम स्वामी ने दावा किया कि राष्ट्रपति की एक विज्ञप्ति और जम्मू-कश्मीर की संविधान सभा की सलाह पर ऐसा किया जा सकता है। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि वर्तमान परिस्थिति में जम्मू-कश्मीर में संविधान सभा नहीं है। उन्होंने कहा, ‘हमें सही समय देखना है और हिम्मत दिखानी है। धारा 370 हट जायेगी।’ राज्यसभा सांसद ने कहा कि जब जम्मू-कश्मीर में धारा 370 को लगाया जा रहा था, ”तब संविधान निर्माता भीमराव अंबेडकर ने इसका विरोध भी किया था। उन्होंने कहा कि लेकिन तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने कश्मीरी नेता शेख अब्दुल्ला को धारा 370 लगाने का वादा किया था जो हमारे संविधान में एक ही विसंगति है।” उन्होंने कहा कि तब यह बात बार-बार आयी थी कि धारा 370 अस्थायी है और इस मसले के संयुक्त राष्ट में होने के कारण इसे लगाया जाना जरूरी है।