खेल अकादमियां और खुलेंगी


नैनीताल: खेल नीति के अनुरूप प्रदेश के साथ ही जनपद में खेल अकादमियों की स्थापना की जायेंगी। जिलाधिकारी दीपेन्द्र कुमार चौधरी ने कहा कि खेलों की पहुंच को विस्तृत करने हेतु पंचायती राज संस्थाओं, स्थानीय निकायों, खेल संगठनों एवं निजी व्यवसायिक संस्थानों व राज्य के खेलों से जुड़े व्यक्तियों की मदद से जनपद में खेल सुविधायें विकसित की जायेगी। उन्होंने जिला कार्यालय में संबंधित अधिकारियों की बैठक लेते हुये कहा कि जो भी संस्था अथवा व्यक्ति जनपद में खेल अवस्थापना सुविधाओं व खेल अकादमी की स्थापना व संचालन करना चाहते हैं, वे सहायक निदेशक खेल हल्द्वानी कार्यालय में आवेदन कर सकते हैं। पंचायती राज संस्थाओं एवं स्थानीय निकायों को खेल अवस्थापना योजनान्तर्गत पूंजीगत कार्यो हेतु आधा-आधा अनुपातिक वित्तीय संसाधन उपलब्ध कराये जायेंगे।

निजी प्रायोजकों द्वारा स्थापित खेल अकादमियों को राज्य सरकार द्वारा 25 प्रतिशत पॅूजीगत व्यय अधिकतम 50 लाख की सीमा तक लाभ दिया जायेगा। जिलाधिकारी ने बताया कि प्रायोजकों द्वारा अपना आवेदन सुस्पष्ट व स्थान का विवरण देते हुये प्रस्तावित खेलों का उल्लेख खेल कर कार्यालय को अपना आवेदन प्रस्तुत करना होगा। उन्होंने कहा कि खेल अकादमियों की स्थापना हेतु आवेदन के साथ प्रस्तावित खेल का सम्पूर्ण प्रोजेक्ट रिपोर्ट, प्रस्तावित खेल के साथ साइड ले आउट, भवन का ले आउट जिसमें प्रशासनिक क्षेत्र, लाॅकर रूम, टाॅयलेट आदि के साथ ही खिलाड़ियों की संख्या एवं कोच का विवरण अनिवार्य रूप से संलग्न करना होगा।

उन्होंने बताया कि इसके लिये जनपद में जिलाधिकारी की अध्यक्षता में 9 सदस्यीय समिति का गठन किया गया है। जिलाधिकारी ने नोडल अधिकारी सहायक निदेशक खेल को निर्देश दिये कि उनके पास जो भी प्रोजेक्ट प्राप्त हो रहे हैं उनकी अपने स्तर से लोक निर्माण विभाग से तकनीकी जांच कराकर समिति के समक्ष प्रस्तुत करें। बैठक में अखत्तर अली, जेसी बेरी, अपर मुख्य अधिकारी जिला पंचायत हिमाली जोशी पेटवाल, दिप्ती जोशी, सहायक अग्रणी बैंक अधिकारी राहुल चैहान आदि मौजूद थे।

– संजय तलवाड़