तीन दिवसीय मलखंब प्रशिक्षण शिविर


malkhamb

देहरादून: सरस्वती विद्या मंदिर आवासीय विद्यालय माण्डूवाला में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ उत्तराखंड के शारीरिक विभाग द्वारा प्रदेश में पहला प्राचीन खेल मलखम्ब का तीन दिवसीय प्रशिक्षण वर्ग आयोजित किया गया, जिसका उद्घाटन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रांतीय शारीरिक प्रमुख सुनील जी ने किया। इस अवसर पर शिक्षार्थियों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि मलखंब वह प्राचीन खेल है। जिसके माध्यम से शरीर को मजबूत तथा मन को शान्त व एकाग्र किया जाता है। वर्ग में मुख्य शिक्षक सोमनाथ जी एवं वर्ग कार्यवाह राकेश मैन्दोला (प्रधानाचार्य सरस्वती विद्या मंदिर माण्डूवाला) रहे।

इस वर्ग में उत्तराखंड के सभी 13 जिलों के 11 वर्ष से 16 वर्ष तक की आयु वर्ग के 72 शिक्षार्थियों ने भाग लिया। दूसरे दिन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रांत प्रचारक युद्धवीर जी ने अपने संबोधन में कहा कि स्वस्थ शरीर व मन स्वस्थ समाज का निर्माण करता है। अतएवं बच्चों व युवा पीढ़ी को ‘फास्ट फूड’ से बचना चाहिए एवं अधिक से अधिक शरीर के लिए एकाग्रता सुनिश्चित करनी चाहिए, छात्राें को ध्रुव की तरह एकाग्र होना चाहिए। मलखंब उसी प्राचीन कला का खेल है जिससे शरीर स्वस्थ व मन एकाग्र होता है।

इस कार्यक्रम में तीसरे दिन रणबीर जी क्षेत्र शारीरिक प्रमुख राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने कहा कि मलखंब शरीर व मन को स्वस्थता प्रदान करता है। कार्यक्रम में मुख्य प्रशिक्षक गौरव नागर उज्जैन से तथा योग प्रशिक्षक प्रवीण पाठक जी गाजियाबद से आये थे। कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के क्षेत्र प्रचारक प्रमुख जगदीश जी, प्रदेश विभाग प्रचारक सुनील जी (देहरादून विभाग) तथा विभाग कार्यवाह अनिल नंदा आदि उपस्थित थे।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें।