धरातल पर नहीं दिख रहे नमामि गंगे के कार्य


namami-gange

ऋषिकेश : हरिद्वार सांसद रमेश पोखरियाल निशंक ने वर्ष 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव से पूर्व प्रधानमंत्री की महत्वकांक्षी परियोजना नमामि गंगे के कार्यों को लेकर समीक्षा बैठक में अधिकारियों को जमकर लताड़ते हुए वर्ष 17 -18 में हुए कार्यों को प्राथमिकता के आधार पर किए जाने के निर्देश दिए। हरिद्वार सांसद रमेश पोखरियाल निशंक ने ऋषिकेश में नगर निगम के सभागार में अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक लेते हुए कहा कि विगत वर्ष मेट्रो रुपए की लागत से नमामि गंगे परियोजना के अंतर्गत कार्य किए गए हैं लेकिन वह कहां हुए हैं इसका जनप्रतिनिधियों को कोई भी ज्ञान नहीं है।

जिसके प्रत्युत्तर में परियोजना निदेशक राघव लंगर ने बताया कि नमामि गंगे परियोजना के अंतर्गत कुल 42 घाटों का निर्माण किया जा रहा है जिसमें 20 घाट माब कोष के माध्यम से कथा 22 घाट सिंचाई विभाग द्वारा बनाए जा रहे हैं, यह टोटल 50 करोड़ 36 लाख रुपए की लागत से बनने है। अधिकारियों ने बताया कि ऋषिकेश से हरिद्वार तक 112 नालों को ट्रैक किया जाना था, जिसमें अभी तक कुल 45 नाले ही टेप हो पाया है फिल्म नालों पर 585 करोड़ खर्च किए जाने हैं।

अधिकारियों ने बताया कि इन नालों की अभी कार्य योजना प्रस्तावित है जिस पर सांसद ने अधिकारियों को कहा कि अब राज्य व केंद्र सरकार सभी प्रकार के संसाधन उपलब्ध करवा रही है लेकिन अधिकारियों की अकर्मण्यता के चलते योजनाएं धरातल पर नहीं उतर पा रही हैं। समीक्षा बैठक में विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद्र अग्रवाल भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष कुसुम कंडवाल, ऋषिकेश भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष चेतन शर्मा, सुदेश कंडवाल सांसद प्रतिनिधि संजय शास्त्री सहित अनेक कार्यकर्ता भी उपस्थित थे।

हमारी मुख्य खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें।

– विक्रम सिंह