दहेज उत्पीड़न के तीन मुकदमे दर्ज


कोटद्वार: महिला हेल्प डेस्क और पुलिस क्षेत्राधिकारी के निर्देशन में चल रही काउंसिलिंग में बात न सुलझने पर कोटद्वार कोतवाली में दहेज त्पीड़न के तीन मुकदमे दर्ज किए गए हैं। इन तीनों मामलों में काउंसिलिंग कर परिवारों में उत्पन्न विवाद को सुलझाने का प्रयास पुलिस की ओर से चल रहा था। कोतवाल उत्तम सिंह जिमिवाल ने बताया कि कोटद्वार के ध्रुवपुर गांव की निवासी अनीता देवी पत्नी दिनेश बड़थ्वाल ने अपने पति के खिलाफ दहेज उत्पीड़न और मारपीट का मुकदमा दर्ज कराया है। बताया कि अनीता का विवाह 20 मई, 2017 को हुआ था।

विवाह के बाद ही पति उसके साथ मारपीट के साथ ही दहेज के लिए उत्पीड़न करने लगा। शादी के दो माह भी पूरे नहीं हुए थे। पुलिस की ओर से इस मामले में पति-पत्नी की काउंसिलिंग के प्रयास किए गए। लेकिन बात न बनने पर मुकदमा दर्ज करने के आदेश दे दिए गए। दूसरा मामले में आमपड़ाव निवासी विवाहिता रसीला पत्नी अबरार अहमद ने अपने पति, सास जरीना बानो, ससुर अताह मोहम्मद, देवर शहनवाज निवासी गंगानगर राजस्थान के खिलाफ मारपीट और दहेज उत्पीड़न का मामला दर्ज कराया है। रसीला ने बताया कि उसका विवाह 27 मई, 2016 को हुआ था। विवाह के बाद से ससुराल वाले उसके मायके वालों से दो लाख रूपये और कार की डिमांड करने लगे।

तीसरा मामला कोटद्वार पटेल नगर निवासी अंजलि ने अपने पति मनीष वर्मा, सास आशा रानी, ममेरा ससुर सुधीर कुमार के खिलाफ दहेज उत्पीड़न, मारपीट का केस दज कराया है। ममेरा ससुर पर छेड़छाड़ के प्रयास का केस अलग से दर्ज किया गया है। पुलिस के अनुसार अंजलि के ससुराली कर्नाटक प्रांत के बंगलुरू शहर के साउथ ब्लाक के निवासी हैं। इस मामले में भी पुलिस की ओर से संबंधित पक्षों की काउंसिलिंग कराई गई थी।