वाहन स्वामियों ने किया निरस्त टेंडरों का विरोध


किच्छा: किच्छा चीनी मिल में पिछले दिनो गन्ना ढुलान के लिए हुए टेंडरों को मिल प्रबधन द्वारा अचानक निरस्त किये जाने से क्षेत्र के तमाम ट्रांसर्पोटर भडक उठे। जिसके चलते समस्त ट्रांसर्पोटरों ने सड़कों पर उतर कर मिल प्रबंधक का पुला फूंका इसके अलावा उपजिलाधिकारी को एक ज्ञापन सौंप कर नियमानुसार हुए टेंडरों को सही मानते हुए ठेके प्रदान करने की मांग की। आज प्रातः किच्छा ट्रक आपरेटरर्स ऐसोसिएशन पर तमाम वाहन स्वामी एकत्र हुए जंहा से सभी नारायण सिंह बिष्ट के नेतृत्व में उपजिलाधिकारी कार्यालय पहुंचे। इस दौरान उपजिलाधिकारी की गैरमौजूदगी में कार्यालय में उपस्थित अन्य अधिकारी को एक ज्ञापन सौंपा जिसमें कहा गया है कि गत 20 जुलाई को मिल प्रबंधन द्धारा गन्ने की ढुलाई के लिए टेडंर बिक्री किये गये थे जिनको उसी दिन चार बजे तक खोला जाना था परंतु बिना वजह मिल प्रबंधन ने टेंडरो को आगे बढा दिया इसके पश्चात टेडंरो को निरस्त कर दिये गये।

उक्त मामले में मिल की अधिशासी अधिकारी से वार्ता की गयी और नियमानुसार हुए टैंडरो के तहत ठेके देने की मांग की गई परंतु अधिशासी अधिकारी ने उनकी बात को अनसुना कर दिया, साथ ही टैंडर प्रक्रिया को 28 जुलाई तक आगे बढा दिया। ट्रक आपरेटर ऐसोसिएशन के संरक्षक नारायण सिंह बिष्ट का कहना है कि जब नियमानंसार टेंडर प्रक्रिया हुई तो आखिर किस वजह से टैंडर निरस्त किये गये उन्होने इसे अनुचित ठहराते हुए उपजिलाधिकारी से ठेके प्रदान कराने की मांग की है। ज्ञापन देने वालों में मुख्य रूप से नारायण सिंह बिष्ट, आदिल, वीरेन्द्र सक्सेना, सुरेन्द्र सिंह आदि मौजूद थे।

– सुरजीत कामरा