गौरक्षा मुद्दे पर वैद्य ने कहा : संघ हिंसा का नहीं करता समर्थन


गौरक्षा से जुड़ी घटनाओं का राजनीतिकरण किए जाने पर रोक लगाने की मांग करते हुए RSS ने आज कहा कि वह गौ रक्षा के नाम पर किसी भी तरह की हिंसा का समर्थन नहीं करता है। RSS ने दोषियों के खिलाफ कार्वाई की भी मांग की।

RSS के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख मनमोहन वैद्य की टिप्पणियां ऐसे समय आई हैं जब विपक्ष तथाकथित गौरक्षकों द्वारा हत्याएं करने के मुद्दे पर संसद में सरकार को घेरने की कोशिश कर रहा है। उन्होंने कहा कि इसे (गौ रक्षा के नाम पर हिंसा) RSS से जोडऩे के बजाए, कार्वाई की जानी चाहिए और जो दोषी पाए जाएं उन्हें दंड दिया जाना चाहिए।

कानून को अपना काम करना चाहिए। गौ रक्षा के नाम पर हिंसा और पीट-पीटकर हत्या की घटनाओं से जुड़े सवालों के जवाब में वैद्य ने कहा कि RSS किसी भी तरह की हिंसा का समर्थन नहीं करता है। हमने पहले भी यह कहा है और इसे पहले भी स्पष्ट किया है। उन्होंने कहा कि गौ रक्षा एक अलग मुद्दा है। गौ रक्षा का अभियान सैकड़ों वषो से चल रहा है। RSS नेता ने आरोप लगाया कि मीडिया इसे एक विचारधारा से जोड़ने की कोशिश कर रहा है और विपक्ष मुद्दे का राजनीतिकरण करने का प्रयास कर रहा है।

उन्होंने कहा कि यह गलत है। संघ ने कभी भी हिंसा का समर्थन नहीं किया। इस पर राजनीति करना और समाज के एक हिस्से को नीचा दिखाना, यह ठीक नहीं है। आजादी के बाद से जम्मू & कश्मीर में पहली बार RSS का सम्मेलन हुआ। तीन दिवसीय सम्मेलन का समापन कल हुआ। इसमें राज्य, देश के हालात समेत कई अन्य मुद्दों पर चर्चा हुई। अखिल भारतीय प्रचारक सम्मेलन 18 से 20 जुलाई को अमरनाथ यात्रियों पर आतंकी हमले और कश्मीर में बिगड़ते सुरक्षा हालात और बढ़ते आतंकवाद की पृष्ठभूमि में हुआ। सम्मेलन में 195 प्रचारक, RSS से संबंद्ध सभी संगठनों के प्रमुख और शीर्ष नेता शामिल हुए।

संघ प्रमुख मोहन भागवत, वरिष्ठ नेता भैय्याजी जोशी, दत्तात्रेय होसबोले और कृष्ण गोपाल ने भी इसमें शिरकत की। वैद्य से उन मीडिया रिपोर्ट्स के बारे में सवाल किया गया जिनके मुताबिक पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार ने कथित तौर पर संघ को आतंकवाद से जोडऩे की कोशिश की थी, इस पर उन्होंने कहा कि मुद्दे का राजनीतिकरण करना और संघ को इसमें घसीटना गलत था। उन्होंने कहा कि पूर्ववर्ती सरकारों द्वारा इसे राजनीतिक मोड़ देना गलत था, बाद में उनका पर्दाफाश भी हो गया।

वैद्य ने कहा ये भी कहा कि इस देश की पहचान हिंदुत्व है, जो किसी भी अन्य धर्म के खिलाफ नहीं है। हम सभी के कल्याण के दर्शन में विश्वास रखते हैं। राजग उम्मीदवार रामनाथ कोविंद के देश के 14वें राष्ट्रपति के तौर पर चुनाव के बारे में उन्होंने कहा कि सभी सांसदों ने उन्हें राष्ट्रपति चुना है और इसका सम्मान किया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि यह एक स्वागतयोज्ञ कदम है। वह बीजेपी कार्यकर्ता और राज्यपाल रहे हैं। यह पार्टी का फैसला था। वैद्य ने कहा कि सम्मेलन में बंगाल में हालात के बारे में चर्चा हुई जो कि एक गंभीर मुद्दा है और वहां हिंदू खौफ में रहते हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें निशाना बनाया जा रहा है। सरकार खामोश बैठी है। मार्च के सम्मेलन में संघ ने प्रस्ताव पारित कर इसकी निंदा की थी। लेकिन वहां हालात नहीं सुधरे हैं।