ऐतिहासिक रिकार्ड का डिजिटलीकरण करेगा वसुंधरा सरकार


digital rajasthan

राजस्थान सरकार अब ऐतिहासिक रिकार्ड का डिजिटलीकरण करने जा रहा है आपको बता दे कि वसुंधरा सरकार पुराने और नाजुक हालत में पहुंच चुके दस्तावेजों के संरक्षण के लिये 10,000 पन्नों का रोजाना डिजिटलीकरण कर रही है। इस पहल का मकसद राजस्थान के राजवाड़ से जुड़े प्रशासनिक और ऐतिहासिक रिकार्ड का संरक्षण करना है।

रिकार्ड के आनालाइन होने से शोधकर्ताओं, प्रशासनिक विभागों, न्यायपालिका तथा आम लोगों को दस्तावेज तक पहुंच में मदद मिलेगी।

राजस्थान स्टेट आर्काइव्स, बीकानेर के निदेशक महेन्द खदगावत ने कहा, ऐतिहासिक रिकार्ड के लगातार मानवीय स्पर्श से वे नाजुक स्थिति में पहुंच जाते हैं। इन रिकार्ड को अगली पीढ़ के लिये संरक्षित रखने के लिये हमारा मानना है कि इसके डिजिटलीकरण और माइक्रोफिल्मिंग की जरूरत है।

फिलहाल राजस्थान के अभलेखागार में 22 राजवाड़ के 30 से 40 करोड़ प्रशासनिक और ऐतिहासिक रिकार्ड हैं। हालांकि संस्थान ने डिजिटलीकरण के लिये 3-4 करोड़ दस्तावेज को चुना है जो शोधकर्ताओं, सरकार, न्यायपालिका तथा आम लोगों के लिये महत्वपूर्ण हैं।

पिछले कुछ साल में इनमें से एक करोड़ से अधिक दस्तावेजों का डिजिटलीकरण किया जा चुका है।  खदगावत ने कहा, डिजिटलीकरण की प्रक्रिया जारी है और रोजाना 10,000 पृष्ठों का डिजिटलीकरण कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि डिजिटलीकरण का काम सबसे पहले 2005-06 में शुरू हुआ। उन्होंने कहा कि इसके अलावा निकट भविष्य में दस्तावेज संग्राहलय बनाया जाएगा। इसमें दस्तावेज प्रदर्शित किये जाएंगे।

24X7 नई खबरों से अवगत रहने के लिए क्लिक करे