राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कांग्रेस पर सेवा के बजाय चुनावी हथकंडे अपनाने और लोगों को समस्याओं में उलझाने का आरोप लगाते हुए इस बात पर अफसोस व्यक्त किया है कि कोई कसर नहीं छोड़ने के बावजूद उपचुनावों में उन्हें जनता का समर्थन नहीं मिला।

विधानसभा में राज्यपाल के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर हुई बहस का जवाब देते हुए वसुंधरा राजे ने कहा हम यह पता लगाएंगे कि लोग हमारी सरकार से क्यों दुखी हुए जिससे हमें हार का सामना करना पड़। उन्होंने कहा कि चुनावी हार के बाद हम और अधिक मेहनत से काम करेंगे एवं सुशासन तथा सेवा के संकल्प पर मरते दम तक कायम रहेंगे।

भामाशाह स्वास्थ्य योजना, ई मित्र, अन्नपूर्णा रसोई तथा शहरों को हवाई सेवा से जोड़ने में देश में नंबर एक राज्य होने का दावा करते हुए उन्होंने कहा कि इन सबसे जनता को खूब लाभ मिल रहा है लेकिन अच्छे कामों में भी विपक्ष साथ में नहीं है जबकि जनता के हित में मतभेद भुलाकर प्रदेश के सर्वांगीण विकास के लिए उन्हें साथ आना चाहिए। उन्होंने कहा कि भामाशाह योजना में लाभार्थियों के खातों में सीधा पैसा जमा कराकर एक मायने में हम पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी का सपना साकार कर रहे हैं जिनका कहना था कि योजनाओं का रुपये में पन्द्रह पैसा ही जनता तक पहुंच रहा है।

रिफाइनरी पर बोलते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस ने बिना योजना और वित्तीय प्रावधान के पचपदरा में चुनाव आचार संहिता लगने से दस दिन पहले पत्थर रखकर वोट लेने का प्रयास किया जबकि हमने दुगुनी क्षमता की रिफाइनरी स्थापित करने के साथ चालीस हजार करोड़ रुपए बचाकर योजना की शुरुआत की।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने चुनाव आचार संहिता लगने से कुछ समय पहले ही 51 हजार करोड़ रुपये के शिलान्यास पत्थर लगा दिए लेकिन उनको धरातल पर लाने में कभी गंभीरता नहीं दिखाई। कांग्रेस का पत्थर लगाने में कोई जवाब नहीं है लेकिन हमने तो उनके लगाए पत्थरों की योजनाओं को पूरा करने में रुचि दिखाई, इसलिए उन्हें हमें धन्यवाद देना चाहिए।

जयपुर में मेट्रो परियोजना को समयानुकूल नहीं बताते हुए कहा कि केवल श्रेय लेने के लिए इसे शुरू तो कर दिया लेकिन उन्हें यह पता नहीं इसके लिए प्रति माह पचास करोड़ रुपये व्यवस्था करने की जरूरत होगी जो हमें खर्च करने पड़ रहे हैं।

24X7 नई खबरों से अवगत रहने के लिए क्लिक करे।