सीबीएसई ने दसवीं क्लास के छात्रों के लिए एक महत्वपूर्ण कदम उठाया है। सीबीएसई ने फैसला किया है कि परीक्षा के दौरान अगर किसी छात्र के प्रश्नपत्र में टाइपो एरर पाया जाता है तो उसे मुआवजे के तौर पर अतिरिक्त दो नंबर दिए जाएंगे। यह सुविधा सभी परीक्षाओं के लिए नहीं, बल्कि केवल अंग्रेजी की परीक्षा के लिए दी जा रही है।

खबरों के अनुसार, कई शिक्षकों और छात्रों ने बोर्ड को अर्जी दी थी कि 12 मार्च को हुई दसवीं की अंग्रेजी की परीक्षा में कॉम्प्रिहेंशन पैसेज के सेक्शन में कई टाइपो एरर थे। शिक्षकों और छात्रों ने ऑनलाइल याचिका के जरिए सीबीएसई से इसकी शिकायत की थी।

बता दें सीबीएसई बोर्ड की दसवीं और बारहवीं की परीक्षाएं 5 मार्च से शुरू हुई थीं और 25 अप्रैल को परीक्षाएं खत्म हुई थीं। इस बीच परीक्षा के दौरान ही इकोनॉमिक्स और मैथ्स के पेपर लीक होने से सीबीएसई को काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है।

जानकारी सामने आई थी कि 10वीं अंग्रेजी के पेपर में सेक्शन रीडिंग में छात्रों को पैराग्राफ 2, 4 और 5 में से endurance, obstruction and motivation का synonyms तलाशना था, लेकिन इसके सही उत्तर stamina, obstacle, and inspiration पैराग्राफ नंबर 3 और 6 में थे। गौर करने पर सामने आया कि कुछ टाइपिंग की गलतियों के कारण भी विद्यार्थियों के बीच कंफ्यूजन पैदा हुई।

अभी तक सीबीएसई ने दसवीं और बारहवीं के नतीजों का ऐलान नहीं किया है। लेकिन उम्मीद जताई जा रही है कि अगले महीने यानी मई में सीबीएसई बोर्ड दसवीं और बारहवीं दोनों कक्षाओं के रिजल्ट जारी कर देगा।

हमारी मुख्य खबरों के लिए यहां क्लिक करे।