BREAKING NEWS

BJP के पूर्व सांसद और वरिष्ठ पत्रकार अश्विनी कुमार चोपड़ा जी का निगम बोध घाट में हुआ अंतिम संस्कार◾पंचतत्व में विलीन हुए पंजाब केसरी दिल्ली के मुख्य संपादक और पूर्व भाजपा सांसद श्री अश्विनी कुमार चोपड़ा◾अश्विनी कुमार चोपड़ा - जिंदगी का सफर, अब स्मृतियां ही शेष...◾करनाल से बीजेपी के पूर्व सांसद अश्विनी कुमार चोपड़ा के निधन पर राजनाथ सिंह समेत इन नेताओं ने जताया शोक ◾अश्विनी कुमार की लेगब्रेक गेंदबाजी के दीवाने थे टॉप क्रिकेटर◾PM मोदी ने वरिष्ठ पत्रकार और पूर्व सांसद अश्विनी चोपड़ा के निधन पर शोक प्रकट किया ◾पंजाब केसरी दिल्ली के मुख्य संपादक और पूर्व भाजपा सांसद श्री अश्विनी कुमार जी को भावपूर्ण श्रद्धांजलि ◾निर्भया गैंगरेप: अपराध के समय दोषी पवन नाबलिग था या नहीं? 20 जनवरी को सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट◾सीएए पर प्रदर्शनों के बीच CJI बोबड़े ने कहा- यूनिवर्सिटी सिर्फ ईंट और गारे की इमारतें नहीं◾कमलनाथ सरकार के खिलाफ धरने पर बैठे MLA मुन्नालाल गोयल, घोषणा पत्र में किए गए वादों को पूरा नहीं करने का लगाया आरोप ◾नवाब मलिक बोले- अगर भागवत जबरदस्ती पुरुष की नसबंदी कराना चाहते हैं तो मोदी जी ऐसा कानून बनाए◾संजय राउत ने सावरकर को लेकर कांग्रेस पर साधा निशाना, बोले- विरोध करने वालों को भेजो जेल, तब सावरकर को समझेंगे'◾दोषियों को माफ करने की इंदिरा जयसिंह की अपील पर भड़कीं निर्भया की मां, बोलीं- ऐसे ही लोगों की वजह से बच जाते हैं बलात्कारी◾पाकिस्‍तान: सुप्रीम कोर्ट ने देशद्रोह मामले में फैसले के खिलाफ मुशर्रफ की याचिका पर सुनवाई से किया इनकार ◾सीएए और एनआरसी के खिलाफ लखनऊ में महिलाओं का प्रदर्शन जारी◾NIA ने संभाली आतंकियों के साथ पकड़े गए DSP दविंदर सिंह मामले की जांच की जिम्मेदारी◾वकील इंदिरा जयसिंह की निर्भया की मां से अपील, बोलीं- सोनिया गांधी की तरह दोषियों को माफ कर दें◾ट्रंप ने ईरान के 'सुप्रीम लीडर' को दी संभल कर बात करने की नसीहत◾ राजधानी में छाया कोहरा, दिल्ली आने वाली 20 ट्रेनें 2 से 5 घंटे तक लेट◾निर्भया : घटना के दिन नाबालिग होने का दावा करते हुए पवन पहुंचा सुप्रीम कोर्ट◾

खिलाड़ियों के स्वास्थ्य से खेल रहा है बीसीसीआई: आईएमए

नई दिल्ली: भारत और श्रीलंका के बीच चल रहे टेस्ट मैच में रविवार को जो हुआ उसने इस चर्चा को गर्म कर दिया कि इतने प्रदूषण में मैच करवाकर बीसीसीआई क्रिकेट खेल रहा है या खिलाड़ियों के स्वास्थ्य से। क्योंकि इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने एक एडवाइजरी जारी करते हुए मैच को तत्काल बंद करने की सलाह दी है।

आईएमए अध्यक्ष डॉ. केके अग्रवाल का कहना है कि पीएम 2.5 के दो सौ से ज्यादा होने पर लोगों को दौड़ने-भागने संबंधी काम नहीं करने की सलाह दी जाती है। इसके तीन सौ से ज्यादा होने पर तेज चलने के लिए भी मना किया जाता है। क्योंकि तेज चलने, भागने और भारी या कठिन काम करते समय इंसान ज्यादा सांस लेता है।

प्रदूषित हवा में इसका मतलब है ज्यादा प्रदूषण को अपने फेफड़ों में भेजना। जाहिर सी बात है कि फेफड़ों में जा रहा यह प्रदूषण बीमार ही करेगा। ऐसे में अंतर्राष्ट्रीय मैच करवाना, ऐसे खिलाड़ियों के स्वास्थ्य से खिलवाड़ करना ही है।

बंद हो मैच... डॉ. अग्रवाल का कहना है कि अब समय आ गया है कि हम प्रदूषण को लेकर भी कड़े फैसले लें। हमे ऐसे बड़े आयोजनों को रद्द कर यह संदेश देना ही होगा कि तय से चार, पांच या छह गुणा प्रदूषण भी ओके नहीं है। अन्यथा यह एक परिपाटी बन जाएगी और पीएम 2.5 के तीन सौ के स्तर को भी सामान्य माना जाने लगेगा। बता दें कि इससे पहले भी डॉ. अग्रवाल ने राजधानी में होने वाले वॉकाथन को रद्द करने की सलाह दे चुके हैं।

फेफड़ों को नुकसान: पटेल चेस्ट इंस्टीट्यूट के रेस्परेट्री विभाग के प्रमुख डॉ. राजकुमार बताते हैं कि पिछले दिनों की तुलना में एक बार फिर राजधानी के वायु प्रदूषण के स्तर में बढ़ोतरी हुई है। इसका कारण गाड़ियों से निकलने वाला धुआं है जो फॉग की वजह से वायुमंडल में ऊपर नहीं जा पा रहा है। इसमें पार्टीकुलेट मैटर के अलावा मुख्य रूप से नाइट्रोजन डाइऑक्साइड, और सल्फर डाइऑक्साइड होता है। वहीं डीजल से चलने वाली गाड़ियों की वजह से वायु में कार्बन डाइऑक्साइड और लेड भी होता है। जो फेफड़ों को सबसे पहले और सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाती है।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें।