BREAKING NEWS

शाहीन बाग में नहीं निकला कोई हल, महिलाएं वार्ताकारों की बात से नाखुश◾राम मंदिर निर्माण : अमित शाह ने पूरा किया महंत नृत्यगोपाल से किया वादा◾उद्धव ठाकरे शुक्रवार को नयी दिल्ली में प्रधानमंत्री से मिलेंगे ◾UP के 4 स्टेशनों के नाम बदले, इलाहाबाद जंक्शन हुआ प्रयागराज जंक्शन◾J&K प्रशासन ने महबूबा मुफ्ती के करीबी सहयोगी पर लगाया PSA◾ओवैसी के मंच पर प्रदर्शनकारी युवती ने लगाए 'पाकिस्तान जिंदाबाद' के नारे, पुलिस ने किया राजद्रोह का केस दर्ज◾भारत में लोगों को Trump की कुछ नीतियां नहीं आई पसंद, लेकिन लोकप्रियता बढ़ी - सर्वेक्षण◾दिल्ली सहित उत्तर के कई इलाकों में बारिश , फिर लौटी ठंड , J&K में बर्फबारी◾Trump की भारत यात्रा के मद्देनजर दिल्ली पुलिस ने रूट पर CCTV कैमरे लगाने शुरू किए◾गांधी के असहयोग आंदोलन जैसा है सीएए, एनआरसी और एनपीआर का विरोध : येचुरी ◾AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी की मौजूदगी में मंच पर पहुंचकर लड़की ने लगाए पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे◾महिलाओं को सेना में स्थायी कमीशन मिलने से लैंगिक समानता लाने की दिशा में मिलेगी सफलता : सेना प्रमुख◾मुझे ISI, 26/11 आंतकी हमलों से जोड़ने वाले BJP प्रवक्ताओं के खिलाफ करुंगा मानहानि का दावा : दिग्विजय◾अमेरिकी राष्ट्रपति के बयान का संदर्भ व्यापार संतुलन से था, चिंताओं पर ध्यान देंगे : विदेश मंत्रालय◾राम मंदिर ट्रस्ट ने PM मोदी से की मुलाकात, अयोध्या आने का दिया न्योता◾अयोध्या में बजरंगबली की शानदार और भव्य मूर्ति बनाने के लिए ट्रस्ट से करेंगे अनुरोध - AAP◾अमित शाह सीएए के समर्थन में 15 मार्च को हैदराबाद में करेंगे रैली ◾AMU के छात्रों ने मुख्यमंत्री योगी के खिलाफ निकाला विरोध मार्च ◾भाकपा ने किया ट्रंप की यात्रा के विरोध में ‘प्रगतिशील ताकतों’, नागरिक संस्थाओं से प्रदर्शन का आह्वान◾TOP 20 NEWS 20 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾

अर्जुन को उसके हाल पर छोड़ दो

नई दिल्ली : यह जरूरी नहीं कि बड़े और चैम्पियन खिलाड़ी का बेटा भी बड़ा खिलाड़ी बने। ऐसे बहुत से खिलाड़ी हुए हैं जिन्होने अपने पिता के नक्शेकदम पर चलने का फैसला किया और नाकाम रहे। महान बल्लेबाज और भारतीय क्रिकेट को बुलंदियों तक पहुँचाने वाले सुनील गावस्कर और उनके बेटे रोहन गावस्कर का उदाहरण लें। रोहन को लगातार मौके मिले। कुछ एक अवसरों पर अच्छा प्रदर्शन किया पर अपने पिता के आस-पास भी नहीं पहुँच पाए।

तब बहुत से क्रिकेट जानकारों और समीक्षकों ने कहा कि रोहन पिता की महानता के बोझ तले दब कर रह गये। कुछ ऐसी ही स्थिति का सामना भारत रत्न सचिन तेंदुलकर के बेटे अर्जुन को भी करना पड़ सकता है। क्रिकेट पंडितों का मानना है कि अर्जुन मे एक अच्छे खिलाड़ी के तमाम गुण हैं लेकिन पिता की महानता का दबाव झेलने मे वह कहाँ तक सफल रहता है, यह देखने वाली बात होगी। जानकारों का तो यह भी कहना है कि मीडिया का एक खास वर्ग अर्जुन को उसके लक्ष्य से भटका सकता है या उसे मंजिल तक पहुँचने से पहले ही डिगा सकता है।

यदि अर्जुन यशस्वी पिता की संतान न होते तो श्रीलंका अंडर 19 के विरुद्ध खेलते हुए उनके द्वारा लिए गये एक विकेट की शायद ही कोई चर्चा होती और शून्य पर आउट होने पर भी मोटे अक्षरों मे खबर ना छापी जाती। बेशक, मीडिया की यह करतूत एक उभरते खिलाड़ी पर भारी पड़ सकती है। सचिन के बेटे होने पर हर अच्छे बुरे प्रदर्शन को अपने पैमाने से तोलने वाला आखिर मीडिया होता कौन है? सचिन ने तो कभी मीडिया से उसकी सिफारिश नहीं की और वह करेंगे भी नहीं। उन्हें अपने कद का आभास है।

लेकिन प्रचार माध्यमों को कब समझ आएगी? जरूरत अर्जुन को उसके हाल पर छोड़ने की है। वह पिता के कंधे या मीडिया के भद्देपन के दम पर आगे कदापि नहीं बढ़ना चाहेगा। अत: बेहतर यह होगा कि उसे उसके हाल पर छोड़ दिया जाए। वरना एक और बचपन पिता की महानता के बोझ तले सिसक कर रह जाएगा।

(राजेंद्र सजवान)