BREAKING NEWS

आज का राशिफल ( 27 मई 2022)◾त्यागराज स्टेडियम में कुत्ता घुमाने वाले IAS अधिकारी संजीव खिरवार का लद्दाख ट्रांसफर, पत्नी का अरुणाचल तबादला◾PM मोदी के नेतृत्व और सशस्त्र बलों के योगदान ने भारत के प्रति दुनिया के नजरिये को बदला : राजनाथ◾PM मोदी ने तमिल भाषा का किया जिक्र , स्टालिन ने ‘सच्चे संघवाद’ को लेकर साधा निशाना◾भारत, यूएई ने जलवायु कार्रवाई के लिए समझौता ज्ञापन पर किए हस्ताक्षर ◾J&K : कश्मीर में टीवी कलाकार की हत्या में शमिल दो आतंकवादी सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में घिरे◾J&K : कुपवाड़ा में सेना ने घुसपैठ का प्रयास किया विफल , तीन आतंकवादी मारे गए, पोर्टर की भी मौत◾PM मोदी ने ‘परिवारवाद’ के कटाक्ष से राव को घेरा, तेलंगाना के मुख्यमंत्री ने ‘भाषणबाजी’ का लगाया आरोप◾टीएमसी का दावा, दिलीप घोष को बंगाल से बाहर किया जा रहा है, भाजपा का पलटवार◾ मूडीज ने भारत की आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान घटाया, आसमान छू रही महंगाई पर जताई चिंता◾ Tamil Nadu: चेन्नई पहुंचे PM मोदी ,हुआ जोरदार स्वागत, रोड शो में उमड़ी हजारों की भीड़◾तेलंगाना के CM चंद्रशेखर राव ने एच डी देवेगौड़ा से की मुलाकात, जानें- किन मुद्दों पर हुई चर्चा◾J&K News: सुंजवां हमले में शामिल एक आतंकवादी को NIA ने किया गिरफ्तार, जैश ए मोहम्मद से जुड़े थे तार◾Monkeypox Virus: कनाडा में मंकीपॉक्स ने दी दस्तक! यहां देखें- कितने मामले सामने आए◾यासीन मलिक को उम्रकैद की सजा सुनाने के बाद फेंके थे पत्थर, लेकिन अब पुलिस के सामने पकड़े कान◾सुप्रीम कोर्ट ने वेश्यावृत्ति को माना प्रोफेशन, पुलिस को दी हिदायत... जारी हुए सख्त निर्देश, जानें क्या कहा ◾ गवर्नर की जगह अब CM होंगी स्टेट यूनिवर्सिटी की चांसलर, ममता बनर्जी कैबिनेट की बैठक में हुआ फैसला◾नवजोत सिंह सिद्धू का पटियाला जेल में बज गया बैंड, मिला क्लर्क का काम, जानें कितना होगा वेतन ◾ Gyanvapi Masjid: यहां जानें 2 घंटे चली वाराणसी जिला कोर्ट की बहस में क्या हुआ, अब सोमवार तक टली सुनवाई◾पाकिस्तान को 'मॉडर्न देश' बनाना चाहते हैं जरदारी! भारत और अन्य देशों से जारी संघर्षों पर कही यह बात ◾

कोरोना को लेकर विशेषज्ञों का दावा - अन्य बीमारियों से ग्रसित मरीजों में संक्रमण फैलने का खतरा ज्यादा

देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस के कारण मौतों का आकड़ां अभी भी बरकरार है। बुधवार को भी कोविड के कारण 35 लोगों की मौत हुई थी। ऐसे में डॉक्टरों के मुताबिक जो मरीज पहले से ही गंभीर बीमारियों से ग्रसित हैं, उन्ही मरीजों की इन परिस्थितियों में ज्यादा मौत हो रही है। आंकड़ों के अनुसार 9 जनवरी से 12 जनवरी तक 97 मरीजों की कोरोना संक्रमण के कारण मृत्यु हुई, जिनमें 40 मरीज दिल्ली के अस्पतालों में अपना इलाज करा रहे थे और यह वह मरीज थे जो पहले से ही किसी न किसी बीमारी से ग्रसित थे। हालांकि दो दर्जन से अधिक मरीजों का टीकाकरण भी नहीं हुआ था, इनमें कुछ को सिर्फ एक ही कोरोना से बचाव की डोज लगी थी।

अधिकतर मरीज पहले से ही अस्पताल में भर्ती थे : डॉक्टर 

एलएनजेपी अस्पताल के मेडिकल डायरेक्टर डॉ. सुरेश कुमार ने मीडिया को बताया कि, अधिकतर मरीज पहले से ही अस्पताल में भर्ती हैं और लंबी बीमारियों से ग्रसित हैं। इनमें कैंसर के मरीज, एड्स के मरीज, डायलिसिस वाले मरीज, लिवर फेयलियर मरीज आदि शामिल हैं। बहुत सारी बीमारियां ऐसी हैं जो लंबे वक्त तक चलती रहती हैं। पहली बीमारियों के कारण मरीज अस्पताल में भर्ती हो रहे हैं इसलिए संक्रमण का खतरा ज्यादा रहता है। क्योंकि उनकी बीमारियां लास्ट स्टेज पर होती हैं। उन्होंने आगे बताया कि, करीब 31 मरीज ऐसे हैं जिनका डायलसिस चल रहा है और वह संक्रमित भी हैं, हफ्ते में दो बार उनका डायलिसिस हो रहा है, काफी संख्या में कैंसर के मरीज भी हैं। दमें, टीबी और एड्स की बीमारी से ग्रहसित मरीज भी अस्पताल में भर्ती हैं।

इन उम्र के मरीजों की हुई मौत 

डॉक्टर ने बताया कि 9 जनवरी से 12 जनवरी के बीच सात मरीज 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चे हैं और तीन एक वर्ष से कम उम्र के मासूम बच्चे हैं। वहीं 19 वर्ष से 40 वर्ष के कुल 18 मरीजों की मृत्यु हुई है। साथ ही 41 वर्ष से 60 वर्ष के कुल 37 मरीज, 60 वर्ष से 80 वर्ष के 27 मरीज और 80 वर्ष से अधिक उम्र के 8 मरीजों की मृत्यु हुई है। उन्होंने कहा दिल्ली के सरकारी और जिलास्तर अस्पतालों में 40 मरीजों की मृत्यु हुई, केंद्र के सरकारी अस्पतालों में 28 मरीज और निजी अस्पतालों में 29 मरीजों की मृत्यु हुई है। एलएनजेपी अस्पताल में भर्ती रहे 54 वर्षीय विनोद कुमार के बेटे तुषार सिंह ने मीडिया को बताया कि, मेरे पिता जी साल भर से किडनी की बीमारी से ग्रसित थे और डायलसिस होने के कारण टीकाकरण भी नहीं हो सका था ऐसे में अस्पताल में भी वह भर्ती रहते थे। डॉक्टरों के कहने पर हमने टीकाकरण नहीं कराया और इसके बाद भी अस्पताल में उन्हें इलाज भी सही नहीं मिल पाया।

राजधानी के आकड़ें 

दिल्ली में बुधवार को कोविड केस 13 हजार से अधिक दर्ज किए गए हैं, वहीं 35 मरीजों की मृत्यु भी हुई है। हालांकि राज्य में अब संक्रमण दर 23.86 फीसदी बनी हुई है। दिल्ली में कोरोना संक्रमण के कुल 13785 मामले सामने आए हैं। दिल्ली में सक्रिय कोरोना मरीजों की संख्या 75282 हो गई है। इसके अलावा दिल्ली के विभिन्न कोविड अस्पतालों में कुल 2734 मरीज मौजूदा वक्त में भर्ती हैं। इनमें कुल 371 मरीज दिल्ली के बाहर से हैं और 2253 मरीज दिल्ली राज्य से हैं।