BREAKING NEWS

आज का राशिफल ( 20 मई 2022) ◾RCB vs GT ( IPL 2022 ) : कोहली के बल्ले से निकली आरसीबी की जीत और प्लेऑफ की उम्मीद◾पंजाब में कांग्रेस को पड़ी दोहरी मार : सिद्धू को एक साल की सजा, जाखड़ ने थामा भाजपा का दामन◾भारतीय मुक्केबाज निकहत जरीन बनीं विश्व चैंपियन , PM मोदी ने दी बधाई ◾ इंडोनेशिया के ऐलान से भारत को राहत, जल्द ही कम हो सकते हैं खाने के तेल के दाम◾ अदालत में दाखिल याचिका को लेकर भड़के ओवैसी, बोले- मुसलमानों के खिलाफ अविश्वास पैदा करने की हो रही कोशिश◾Gyanvapi News: ज्ञानवापी मस्जिद पर अभिनेत्री कंगना बोलीं- काशी के कण- कण में बसे हुए हैं भगवान शिव◾ RCB vs GT: गुजरात टाइटंस ने टॉस जीतकर किया बल्लेबाजी का फैसला, यहां देखे दोनो टीमों की प्लेइंग इलेवन◾Quad Summit 2022: टोक्यो में शुरू होगा मोदी का मिशन, 24 मई को जाएंगे जापान, दिग्गज नेताओं के साथ होगी बातचीत ◾UP: स्वतंत्रता सेनानियों पर भावुक होकर योगी बोले- पिछली सरकारो ने इनके आदर्शों पर नहीं किया काम◾DU को संबोधित करते हुए शाह ने कहा: नहीं होनी चाहिए राजनीतिक लड़ाई, जिक्र किया- रक्षा नीति का.... ◾Gyanvapi Survey: वाराणसी अदालत में 23 मई को होगी अगली सुनवाई, दर्ज की जा चुकी है सर्वे रिपोर्ट ◾ अमित शाह से मिले CM भगवंत मान, PAK से ड्रोन घुसपैठ को लेकर MHA से की ये बड़ी मांग◾1988 रोड रेज केस : एक साल की सजा पर बोले सिद्धू-कानून का सम्मान करूंगा◾Delhi High Court ने लगाई घर-घर राशन योजना पर रोक, कहा: दिल्ली सरकार नहीं कर सकती केंद्र के राशन का इस्तेमाल ◾'कुछ नेता ही कांग्रेस के राष्ट्रीय नेतृत्व को कर रहे हैं गुमराह', इस्तीफे के बाद बोले हार्दिक◾जिसका शिवपाल को था इंतजार.. वो घड़ी आ गई! आजम की जमानत का चाचा-भतीजे पर कैसा होगा असर? ◾SC से रिहाई के बाद फिर जेल जा सकते हैं आजम खान, जानिए किस मामले में फंस सकते हैं SP नेता ◾Delhi News: राजधानी फिर हुई धुआं-धुंआ! मुस्तफाबाद की फैक्ट्री में लगी भीषण आग, दमकल की गाड़ियां मौके पर मौजूद◾नवजोत सिंह सिद्धू को SC से मिला बड़ा झटका, 34 वर्ष पुराने रोडरेज मामले में मिली एक वर्ष की सजा ◾

केंद्र ने HC को बताया, सेंट्रल विस्टा के निर्माण कार्य के दौरान वक्फ बोर्ड की संपत्ति प्रभावित नहीं हो रही

केंद्र की महत्वकांशी सेंट्रल विस्टा पुनर्विकास परियोजना को लेकर दायर याचिका पर सरकार ने दिल्ली हाई कोर्ट को बताया कि परियोजना के अंतर्गत चल रहे कार्य से दिल्ली वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को ‘कुछ नहीं हो रहा’ है। मामले में अगली सुनवाई 20 जनवरी 2021 में की जाएगी।

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने न्यायमूर्ति संजीव सचदेवा से विरासत संपत्तियों के संरक्षण की मांग वाली बोर्ड की याचिका तीन सप्ताह के लिए स्थगित करने का आग्रह किया और कहा कि यह ‘लंबी योजना’ है और जिस संपत्ति को लेकर सवाल किया गया है, वहां तक पुनर्विकास परियोजना नहीं पहुंची है। 

याचिका में बोर्ड ने कहा था कि उसकी संपत्ति के प्रभावित होने की आशंका है। केंद्र की ओर से सॉलिसिटर जनरल ने कहा, ‘‘कृपया इसे तीन सप्ताह के लिए स्थगित करें। इन संपत्तियों को कुछ नहीं हो रहा है। मेरे जानकार मित्र (याचिकाकर्ता) निश्चिंत हो सकते हैं। हम आपके समक्ष हैं। यह एक लंबी योजना है और हम किसी भी तरह से इसके निकट नहीं पहुंचे हैं।’’

दिल्ली हाई कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई 20 जनवरी तक के लिए यह कहते हुए स्थगित कर दी कि उसे सॉलिसिटर जनरल पर ‘पूरा विश्वास’ है और उसने याचिकाकर्ता का प्रतिनिधित्व करनेवाले वरिष्ठ वकील द्वारा इस बयान को रिकॉर्ड पर लेने के आग्रह को ठुकरा दिया। दिल्ली वक्फ बोर्ड का प्रतिनिधित्व वरिष्ठ अधिवक्ता संजय घोष कर रहे थे। 

बोर्ड ने अपनी याचिका में पुनर्विकास परियोजना कार्य वाले इलाके में अपनी छह संपत्तियों के संरक्षण का आग्रह किया है। इसमें मानसिंह रोड पर मस्जिद जाब्ता गंज, रेड क्रॉस रोड पर जामा मस्जिद, उद्योग भवन के समीप सुनहरी बाग रोड मस्जिद, मोतीलाल नेहरू मार्ग के पीछे मजार सुनहरी बाग रोड, कृषि भवन परिसर के भीतर मस्जिद कृषि भवन और उप राष्ट्रपति के आधिकारिक आवास के भीतर स्थित मस्जिद वाइस प्रेसिडेंट शामिल है।

याचिका में यह दावा किया गया कि ये छह संपत्तियां ‘सामान्य मस्जिद से कहीं ज्यादा हैं और इनके साथ विशिष्टता जुड़ी हुई’ है। याचिका में कहा गया कि न तो ब्रिटिश सरकार और न ही भारत सरकार ने इन संपत्तियों पर धार्मिक परंपराओं के पालन में कोई बाधा पहुंचाई और यह हमेशा संरक्षित रहीं।