नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद दिवाली पर दिल्लीवालों ने रात आठ बजे से पहले और रात दस बजे के बाद भी जमकर पटाखे फोड़े गए। ग्रीन पटाखे तो बाजार में थे नहीं, लाजमी है कि ये प्रदूषण फैलाने वाले नॉन-ग्रीन पटाखे थे। उधर, दिल्ली पुलिस ने अदालत के आदेश का पालन करते हुए नियम तोड़ने वालों पर कार्रवाई करते हुए 562 मुकदमे दर्ज किए और 310 लोगों को दिल्ली पुलिस एक्ट के तहत दबोचा। पुलिस ने करीब 1700 किलो पटाखे जब्त किए हैं। पुलिस ने एक्सप्लोसिव एक्ट के तहत 72 एफआईआर कर 87 लोगों को गिरफ्तार किया है।

दिल्ली पुलिस प्रवक्ता एवं नई दिल्ली जिला के डीसीपी मधुर वर्मा ने बताया कि पटाखे जलाने वालों के खिलाफ पुलिस ने सख्त कार्रवाई की है। दिल्ली ने दीपावली से पूर्व लोगों को जागरूक भी किया और कोर्ट के आदेश से अवगत कराने का काम भी किया। फिर भी जो लोग नहीं माने उनके खिलाफ दिल्ली पुलिस ने सभी जिलों में कार्रवाई की।

रोहिणी जिला पुलिस ने दीपावली के मौके पर 800 किलो पटाखे जब्त किए। पटाखे छोड़ने वालों पर भी 58 एफआईआर दर्ज की गईं। अवैध रूप से पटाखे रखने वालों पर भी चार मुकदमें दर्ज किए गए। नॉर्थ जिले में 145 किलो अवैध पटाखे जब्त हुए और तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया। पटाखे फोड़ने वाले 8 लोगों के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज किया गया। नई दिल्ली जिले में पटाखा छोड़ रहे छह लोगों को पुलिस ने मौके पर ही पकड़ लिया। उनके खिलाफ भी पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भी हुई आतिशबाजी, हवा की गुणवत्ता बेहद खराब