नई दिल्ली : प्रदूषण पर आईसीएमआर की बीते गुरुवार को आई रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया देते हुए दिल्ली प्रदेश भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने इसे दिल्ली को शर्मसार करने वाला करार दिया। उनका कहना है कि सामान्य से पांच गुना ज्यादा वायु प्रदूषण के कारण दिल्ली के लोगों की उम्र में 18 महीने की कमी होने का अनुमान लगाया गया है।

वहीं अस्थमा और हार्ट अटैक के मरीजों की संख्या 30 प्रतिशत तक बढ़ गई है, जो विचलित करने वाली है। तिवारी का कहना है कि इस समय न तो पटाखे जल रहे हैं न किसान पराली जला रहे हैं फिर भी दिल्ली का प्रदूषण स्तर बेहद खराब की श्रेणी है। यह दर्शाता है कि सरकार ने इसे नियंत्रित करने के लिए कोई उपाय नहीं किया।

यह स्थिति तब है जबकि एनजीटी ने सरकार पर कई करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया है। सड़कों की पीडब्ल्यूडी द्वारा मैकेनिकल सफाई हो, पानी का छिड़काव हो, पौधरोपण हो, निर्माण कार्य पर रोक हो, एयर प्यूरीफायर लगवाने की बात हो, हर स्तर पर दिल्ली सरकार विफल रही है।

उन्होंने सरकार से मांग की है कि इसके लिए भी विशेष सत्र बुलाकर एयर क्वालिटी को सामान्य स्थिति पर लाने हेतु अतिशीघ्र यथोचित प्रयास किये जायें। उनकी सलाह है कि इस मामले पर राजनीति बिलकुल नहीं होनी चाहिए।

प्रदूषण फैलाने वाले 63 यूनिट सील
नॉर्थ एमसीडी ने प्रदूषण फैलाने वाले यूनिट पर कार्रवाई की है। इस कड़ी में 63 यूनिट को सील कर दिया गया है। साथ ही 37 यूनिट की जांच भी की गई। बता दें कि बीते 30 नवंबर को ही यहां पर 103 यूनिट की पहचान कर उन्हें शो-कॉज नोटिस जारी किया गया थाी।

साथ ही खाली करने के लिए 48 घंटों का समय भी दिया गया था। शुक्रवार को इन्हीं यूनिट पर कार्रवाई करते हुए सील किया गया। शेष पर कार्रवाई शनिवार को होगी। दरअसल, बिडनपुरा और रैगरपुरा इलाके में एक सर्वे किया गया था।